Previous
Next

Monday, May 29, 2017

BREAKING: हरियाणा आवास बोर्ड ने आवास नीति में बड़ा बदलाव किया

BREAKING: हरियाणा आवास बोर्ड ने आवास नीति में बड़ा बदलाव किया

चंडीगढ़, 29 मई- हरियाणा आवास बोर्ड ने विभिन्न नियमों और विनियमों में संशोधन करने, आवास बोर्ड के हाउसिंग स्टॉक के निपटारे, बीपीएल आबंटन और हरियाणा आवास बोर्ड की स्थानांतरण नीति में संशोधन करने का निर्णय लिया है। यह निर्णय हरियाणा आवास बोर्ड के अध्यक्ष श्री जवाहर यादव की अध्यक्षता में आयोजित बोर्ड सदस्यों की 209वीं बैठक में लिए गए। इस बैठक में हरियाणा आवास विभाग के प्रधान सचिव श्री श्रीकांत वाल्गद, आवास बोर्ड के मुख्य प्रशासक श्री शेखर विद्यार्थी सहित बोर्ड के अन्य सदस्य भी उपस्थित थे।

श्री जवाहर यादव ने बताया कि बैठक में निर्णय लिया गया कि हरियाणा आवास बोर्ड (आवंटन प्रबंधन और आवास की बिक्री) विनियम 1972 के नियम 12 को संशोधित किया गया है यदि आवेदक बोर्ड द्वारा घर के प्रस्ताव की तिथि तक अपने आवेदन को वापिस लेने के मामले में 50 प्रतिशत (वर्तमान में यह 10 प्रतिशत) पंजीकरण के समय आवेदन के साथ जमा राशि को जब्त कर लिया जाएगा। बोर्ड ने यह भी निर्णय लिया कि हरियाणा आवास बोर्ड (आवंटन प्रबंधन और आवास की बिक्री) विनियम 1972 की नियम 13 को भी संशोधित करने का निर्णय लिया गया है यदि आवेदक आवंटित पत्र प्राप्त होने की तिथि से 30 दिनों के भीतर आवंटित आवास के कब्जे को लेने में विफल हो जाता है, और पंजीकरण के समय आवेदन के साथ जमा राशि का 90 प्रतिश्त (वर्तमान में यह 50 प्रतिशत है) बोर्ड द्वारा जब्त कर लिया जाएगा और बकाया राशि बिना ब्याज के वापिस कर दी जाएगी।
श्री जवाहर यादव ने बताया कि हरियाणा आवास बोर्ड के अनबिके आवासों के निपटारे के लिए भी निर्णय लिए गए हैं, जिसके अनुसार ईडब्लूएस / बीपीएल घरों को ईडब्ल्यूएस / बीपीएल परिवारों को दिए बिना आम जनता को नहीं दिया जा सकता। इसलिए ऐसे सभी घरों को उन श्रेणियों के लिए फिर से विज्ञापित किया जाएगा, जिनके लिए उन्हें शुरू में श्रेणीबद्ध किया गया था।  विज्ञापन में निर्दिष्ट किया जाना चाहिए, कि ये घर दूसरी बार प्रस्तुत किए जा रहे हैं और यदि पर्याप्त आवेदन प्राप्त नहीं होते हैं और घरों को फिर से आवंटित नहीं किया जाता है, तो उन्हें एलआईजी श्रेणी में आम जनता को प्रस्तुत किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इन घरों को किश्त योजना के तहत प्रस्तुत किया जाएगाअर्थात प्रारंभिक प्रारंभ मेंं आवेदन के साथ 10 प्रतिशत, 15 प्रतिशत ड्रा के बाद और 75 प्रतिशत शेष पांच वर्ष के लिए अर्ध वार्षिक किश्तों में आबंटित होगी। इन सभी घरों के लिए जून 2017 के पहले सप्ताह से पहले विज्ञापित किया जाएगा। इन घरों के निपटान के लिए शर्तों / नीतियों में छूट के लिए सरकार का अनुमोदन किया जाएगा। इन शर्तों को इन अनबिके व वापिस किए गए घरों के लिए लागू किया जाएगा और यह एक सामान्य नीति के रूप में शुरू की गई नई योजनाओं के लिए लागू नहीं होगी।
आवास बोर्ड के अध्यक्ष ने बताया कि बोर्ड ने बीपीएल आबंटन के मुद्दे पर भी विचार किया, जिसमें आवेदक बीपीएल कार्ड धारक को योजना व पंजीकरण के समय में प्रवर्तन के दौरान रखा गया था, लेकिन जब तक फ्लैट्स का निर्माण किया गया, तब तक उसका नाम जिले के बीपीएल सूची से बाहर था। इसलिए यह निर्णय लिया गया कि ऐसे सभी मामलों में आवंटन के समय को नहीं बल्कि पंजीकरण की अंतिम तिथि पर पात्रता की जांच की जाएगी।
उन्होंने बताया कि बोर्ड ने स्थानांतरण नीति में संशोधन करने का भी निर्णय लिया जिसके अनुसार हरियाणा ग्राम एवं आयोजना विभाग की 8 जुलाई, 2013 की नीति के  मद्देनजर रखते हुए ईडब्ल्यूएस के फ्लैट व आवास इकाई के हस्तांतरण को पांच साल के आवंटन के बाद अनुमति दी जाएगी। इसलिए, आवंटन के लिए मौजूदा 13 से 5 साल के अंतरण के लिए हस्तांतरण की अवधि कम हो जाएगी। चूंकि, अन्य श्रेणियों जैसे एलआईजी, एमआईजी और एचआईजी घरों के मामले में ऐसी कोई समय सीमा नहीं है, इसलिए, आवंटन के बाद ऐसे मामलों में आवास इकाई के हस्तांतरण की अनुमति दी जाएगी और हरियाणा आवास बोर्ड द्वारा संपूर्ण विचार राशि प्राप्त होने के बाद ही स्वीकृति प्रदान की जाएगी। यदि  आंबटी फ्लैट व आवास इकाई की पूरी राशि आवंटन पत्र जारी करने के तुरंत बाद जमा करवाता देता है तो फ्लैट को किसी दूसरे व्यक्ति को स्थानांतरित करने से उसे रोकने का कोई औचित्य नहीं है।
आवास बोर्ड के अध्यक्ष ने बताया कि बीपीएल आवासों को 13 वर्ष की एचपीटीए अवधि पूरी करने के बाद भी हस्तांतरण करने पर पूर्ण प्रतिबंध है, इसलिए सरकार को बीपीएल घरों से संबंधित और अन्य आंबटियों के मामलों में बीपीएल घरों के हस्तांतरण से संबंधित शर्तों में छूट देने के लिए अनुरोध किया जा सकता है।