Showing posts with label Bhiwani News. Show all posts
Showing posts with label Bhiwani News. Show all posts

Sunday, March 19, 2017

जाट हिंसा से दूर रहें वर्ना देश विदेश में बहुत बदनामी होगी, जाट नेता हवासिंह सांगवान

जाट हिंसा से दूर रहें वर्ना देश विदेश में बहुत बदनामी होगी, जाट नेता हवासिंह सांगवान

भिवानी, 19 मार्च:- जाट नेता हवासिंह सांगवान के कहा कि सरकार की तैयारीयों से लगता है कि वे जाट आदोंलन को हिंसा के माध्यम से निपाटाना चाहते है। ऐसे में जाटों को शांति प्रिय रहना होगा वरना हमारा आंदोलन अपने मुद्दो से भटक जाएगा और दूसरे अंन चाहये मुद्दे खड़े हो जाएगे। साथ-साथ जाटो की देश और विदेश में बदनामी होगी। इसलिए जाटो को अपनी साख बचाना भी उतना ही महत्व पूर्ण है जितना महत्व पूर्ण हमारी सरकार से मांगे है।

 इतिहास गवाह है जब जब भी हिंसा होने का अदेंशा हुआ तो महात्मा गांधी ने अपने आंदोलन बिच में ही रोक दिए थे। आज हमारे आजाद देश में प्रत्येक भारतीय नागरिकों को अपने हकों को लेने के लिए आंदोलन करने का एक सवधानिक अधिकार है। लेकिन आंदोलन शंातीप्रिय और अंहिसक होना चाहिए।  जाट धर्मशाला में मीडिया से रुबरु हुए अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व कमांडेंट हवासिंह सांगवान ने कहा कि सरकार की तैयारियां बताती हैं कि सरकार प्रदेश में हिंसा करवाना चाहती है। इसलिए जाट सामज हिंसा से दूर रहें। 
   इस प्रैस वार्ता में उनके साथ सघर्ष समिति भिवानी के जिला अध्यक्ष चौ रघबीर सिंह बूरा, एडवोकेट राजनारायण पंघाल, जोगेन्द्र तालु, वेद धनाना व अनेक पदाधिकारी उपस्थित थे।

Saturday, March 18, 2017

जाट आंदोलन: कोई भी अनहोनी रोकने के लिए प्रशासन की बड़ी तैयारी शुरू

जाट आंदोलन: कोई भी अनहोनी रोकने के लिए प्रशासन की बड़ी तैयारी शुरू

भिवानी, 18 मार्च। उपायुक्त डॉ. अंशज सिंह ने आरक्षण आंदोलन के दौरान नियुक्त ड्यूटी मेजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारियों को आपस में तालमेल के साथ काम करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने निर्देश दिए हैं वे जहां भी जाना हो तो एक साथ व एक ही गाड़ी में जाएं। उन्होंने कहा कि प्रशासन किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है तथा कानून व्यवस्था को किसी भी सूरत में बिगड़ने नहीं दिया जाएगा।

वे आज पंचायती राज प्रशिक्षण संस्थान में ड्यूटी मेजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारियों को आरक्षण आंदोलन के चलते दिशा-निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारी व ड्यूटी मेजिस्ट्रेट अपनी ड्यटी में किसी भी तरह से कोताही न बरतें। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले की हर निजी व सरकारी एंबूलेंस गाड़ियों को दुरुस्त हालत में रखें ताकि किसी भी समय जरूरत पड़ने पर उनका प्रयोग किया जा सके। इसी प्रकार से उपायुक्त ने रोडवेज यातायात प्रबंधक को बसों की सुरक्षा व समुचित संख्या में रखने के निर्देश दिए। 
उपायुक्त ने कहा कि बिजली-पेयजल की आपूर्ति किसी भी सूरत में बाधित नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने जनस्वास्थ्य विभाग तथा बिजली निगम के अधिकारियों को पेयजल व बिजली की निर्बाध रूप से आपूर्ति करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जरूरी सेवाएं किसी भी तरह से बाधित नहीं होने दी जाएंगी। उन्होंने कहा कि यदि कहीं भी कोई ये सेवाएं बाधित करता है तो उसकी सूचना तुरंत पुलिस-प्रशासन को दें। इसके साथ ही उन्होंने उपमंडल अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने क्षेत्र के तहत आने वाले गावों के पंचायत प्रतिनिधियों के संपर्क में रहें तथा गांवों से किसी भी हालत में ट्रैक्टर ट्रालियों को सवारी होने के तौर पर प्रयोग न होने दें। उन्होंने कहा कि यदि गांवों से ट्रैक्टर ट्रालियां गांवों से आती हैं तो उसके लिए पंचायत प्रतिनिधि जिम्मेदार होंगे। उन्होंने निर्देश दिए पुलिस व रोड़वेज या अन्य किसी भी विभाग के यूनिफोर्म के कर्मचारी अपनी वर्दी में रहें। इसके साथ ही अधिकारी अपने-अपने कार्यालयों में कर्मचारियों की तैनाती जरूर रखें ताकि सरकारी कार्यालय सुरक्षित रहें।

इस दौरान पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार ने कहा कि ड्यूटी मेजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारी तालमेल के साथ अपना कार्य ेकरें। उन्होंने वे कानून का पालन करते हुए किसी भी स्थिति में शांति भंग न होने दें। उन्होंने कहा कि यदि कहीं भी दंगा भड़कने की आशंका हो तो स्थिति भांपते हुए उनको प्रदत्त शक्तियों को प्रयोग करें। इस मौके पर पुलिस अधिकारियों व ड्यूटी मेजिस्ट्रेट को किसी भी स्थिति से निपटने के बारे में  कानूनी जानकारियां दी गई। इस मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त धीरेंद्र खड़गटा, नगराधीश महेश कुमार, सभी उपमंडल नागरिक अधिकारी, जिलेभर में तैनान ड्यूटी मेजिस्ट्रेट मौजूद थे। 
जाट आंदोलन, सीमाएं रहेंगी सील, सेना बुलाई गई, इंटरनेट सेवाएं बंद की गईं

जाट आंदोलन, सीमाएं रहेंगी सील, सेना बुलाई गई, इंटरनेट सेवाएं बंद की गईं

भिवानी, 18 मार्च। आरक्षण आंदोलन के मद्देजनर जिले की सीमाएं सील रहेंगी तथा किसी भी सूरत में संसद कूच के लिए लोगों को जाने नहीं दिया जाएगा। इसके लिए टै्रक्टर ट्रालियों में सवार होकर आवागमन पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाया है। आमजन की सुरक्षा के लिए सेना की 18 कॉलम जिले में शीघ्र पहुंच रही हैं, जिसमें एक कॉलम में 100 जवान होंगे। किसी भी तरह की अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए जिले में इंटरनेट सेवाएं भी आगामी आदेशों तक बंद कर दी गई हैं। 

यह जानकारी उपायुक्त डॉ. अंशज सिंह ने डीआरडीए हॉल में पत्रकारों को संबोधित करते हुए दी।  आरक्षण आंदोलन के दौरान जिले में अमन चैन कायम रखने के लिए उपायुक्त डॉ. अंशज व पुलिस कप्तान अशोक कुमार ने कानून व्यवस्था व आमजन की सुरक्षा की समीक्षा की। इस दौरान उपायुक्त ने बताया कि जिले में टै्रक्टर ट्रालियों में सवार होकर आवागमन पर पूर्णरूप से प्रतिबंध लगाया गया है। यदि कोई व्यक्ति इन आदेशों की उल्लंघना करते हुए टै्रक्टर ट्राली का प्रयोग सवारी ढ़ोने के लिए करेगा तो उसके खिलाफ मोटर व्हीकल एक्ट की धारा के तहत सख्त कार्रवाई की जाएगी तथा उसके वाहन को जब्त कर लिया जाएगा। उपायुक्त ने बताया कि किसी भी व्यक्ति को आमजन अथवा सरकारी या निजी संपत्ति नुकसान पहुंचाने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि वे किसी भी तरह  की हिंसात्मक कार्रवाई में संलिप्त न हो। यदि कोई संदिग्ध व्यक्ति इस तरह की गतिविधि में शामिल मिलता है तो उसकी सूचना प्रशासन को दें। 
पत्रकारों द्वारा पूछे गए एक प्रश्र के उत्तर में उन्होंने कहा कि आंदोलन से जुड़े  मौजिज व्यक्तियों के साथ-साथ प्रशासन पंचायत प्रतिनिधियों के साथ लगातार संपर्क में है तथा उनसे शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की जा रही है। किसी भी सूरत में मुख्य राजमार्गों व रेलवे मार्गों को रोकने नहीं दिया जाएगा। भिवानी व तोशाम जैसे संवेदनशील इलालों में शराब की बिक्री पूर्णतया बंद रहेगी। सभी अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने-अपने कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति सुनिश्चत रख्रें।
इसके अलावा टै्रक्टर ट्रालियों में किसी भी प्रकार का तेजधार हथियार, ज्वलनशील पदार्थ व अन्य खाद्य सामग्री भी यदि मिलती है तो उनके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि पैट्रोल पंप मालिकों को खुला डीजल किसी को भी किसी सूरत में न देने के साथ-साथ ट्रैक्टर में तेल नहीं डालने के आदेश दिए हैं। उन्होंने पैट्रोल-डीजल का पूरा विवरण अपने पास रखने को कहा है। उन्होंने कहा कि पैट्रोल पंप संचालकों को भी किसी भी तरह से परेशानी नहीं आने दी जाएगी। जिलाधीश ने प्राईवेट व्यक्ति द्वारा वाकी-टाकी सेट के उपयोग पर भी पूर्णतय पाबंदी लगा दी है। इस दौरान उन्होंने बताया कि दिल्ली को जाने वाले सभी मुख्य मार्गों पर पुलिस नाके लगाए हैं।  बसों की सुरक्षा को लेकर भी एतिहात बरता गया है।

Tuesday, March 14, 2017

हरियाणा में आयोजित की गई देशी घोडियों की दौड़ प्रतियोगिता

हरियाणा में आयोजित की गई देशी घोडियों की दौड़ प्रतियोगिता

भिवानी,(14 March): आज भी ग्रामीण इलाकों में प्राचीन खेलों को बडें उत्साह के साथ देखा जाता है। भिवानी के गांव दिनोद में देशी घोडियों की दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें आसपास के गांव की 15 घोडियों ने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। प्रतियोगिता का शुभारंभ मुख्यअतिथि विरेन्द्र फौजी ने रीबन काटकर किया। इस प्रतियोगिता का आयोजन लाला ताखर एंव कालिया मिस्त्री द्वारा आयोजन किया गया था। इस अवसर पर राजेश ठाकुर, विकास सहित सैक ड़ों लोग इस प्रतियोगिता को देखने पहुचें थे। 

घोड़ी दौड़ प्रतियोगिता में पहला स्थान पर गांव बत्तरखेड़ी के मीरसिंह के घोड़े ने 51 सौ रूपये की इनाम राशि को प्राप्त किया तो दूसरे स्थान पर गांव कुहाड़ के रामअवतार की घोड़ी &1 सौ रूपए की इनाम राशि को प्राप्त किया। वहीं तीसरे स्थान पर गांव हालुवास एंव चौथे स्थान पर सुई की घोड़ी ने 21 सौ व 11 सौ रूपए इनाम राशि जीत कर ग्रामीणों का उत्साहवर्धन किया।  

Friday, March 10, 2017

अब घूंघट में नहीं रहेंगी हरियाणा के कई जिलों की महिलायें

अब घूंघट में नहीं रहेंगी हरियाणा के कई जिलों की महिलायें

भिवानी, 10 मार्च।         भविष्य में हम अपने घरों में कभी पर्दा नहीं करेगी और ना ही अपने परिवार में किसी महिला सदस्य को पर्दें के लिए विवश होने देंगी।
    गुजरात में आयोजित विश्व महिला दिवस कार्यक्रम से लौटकर जिले की समाज सेवी, ग्राम सचिव व पंचायत प्रतिनिधि महिलाओं ने यह संकल्प लिया है। आज शुक्रवार को जिला ग्रामीण विकास अभिकरण सभागार में इन महिला प्रतिनिधियों का स्वागत किया गया। अपने अनुभव सांझा करते हुए गांव कारीधारणी निवासी सरपंच कमलेश देवी ने बताया कि गुजरात में प्रवेश करते ही सबसे पहले उन्होंने जिला हिम्मतनगर के गांव वरदाड का दौरा किया। इस गांव में उन्हें महिलाओं के लिए काफी खुला माहौल दिखाई दिया। घरों में किसी महिला ने, चाहे वह छोटी हो या बड़ी, पर्दा नहीं किया हुआ था। यह सामाजिक परिवेश देखकर भिवानी जिले के साथ शामिल फतेहाबाद, गुरूग्राम व फरीदाबाद की महिलाओं ने एक स्वर में यह संकल्प लिया कि वे भी कभी पर्दा नहीं करेंगी और घूंघट प्रथा को दूर करने के लिए पूरी शक्ति से विरोध करेंगी। 

    ग्राम बोहल निवासी मीनू देवी, बाढ़ड़ा ग्राम मुनेश व कारीमोद निवासी सुमन ने बताया कि वरदाड गांव में इंडो-इजराइल के संयुक्त उपक्रम से लगाए पॉलीहाऊस काफी शानदार थे। यहां भिन्न-भिन्न प्रजातियों के पेड़-पौधे व हरी सब्जियां देखने को मिली। उन्होंने भी अपने गांव को हरा-भरा बनाने और पॉलीहाऊस का निर्माण करवाने का निर्णय लिया है। गांव ढ़ाणी माहू की सरपंच सुमन देवी, झुल्ली निवासी उर्मिला देवी ने बताया कि महात्मा गांधी का साबरमती आश्रम देखकर उनका मन शान्ति और श्रद्धा से भर गया। यहां विद्यार्थियों ने बेकार हो चुके सामान से अनेक उपयोगी सामग्री व शो पीस तैयार किए हुए थे। 

    महिला प्रतिभागियों ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का उद्बोधन प्रेरणादायी रहा। साबर नदी के तट पर भी उन्हें मनमोहक नजारा देखने को मिला। गांधीनगर में आयोजित इस कार्यक्रम में डिजीटल प्रदर्शनी लगी हुई थी। अमूल उत्पादन तैयार करने वाली साबर डेयरी में आधुनिक मशीनों से दूध के विभिन्न उत्पाद बनाए जा रहे थे। इस डेयरी के प्रबंधक जेठालाल पटेल से भी मुलाकात हुई। गुजरात से वापिस आने के बाद सभी महिलाओं ने डेयरी उत्पादन को बढ़ावा देने, पर्यावरण संरक्षण व बागवानी को प्रोत्साहन देने का निर्णय लिया है। 
    परियोजना अधिकारी मनोज जैन व महिला प्रतिनिधि मंडल के साथ गए सतीश कुमार ने इस दौरे को महिलाओं के लिए काफी लाभदायी बताया।