Showing posts with label Congress News. Show all posts
Showing posts with label Congress News. Show all posts

Thursday, November 17, 2016

निकलने लगा काला धन, हरियाणा में 67 लाख, दिल्ली में 69  लाख बरामद

निकलने लगा काला धन, हरियाणा में 67 लाख, दिल्ली में 69 लाख बरामद

Narendra Modi
नई दिल्ली: देश की बैंकों के सामने अभी तक जो खड़े दिखाई देते हैं वो अधिकतर आम आदमी हैं जो दस बीस हजार या तो जमा करने जाते हैं या दो चार हजार निकालने जाते हैं ।काली कमाई रखने वाले धनकुबेर अब तक हिसाब किताब लगाने में जुटे हैं कि काली कमाई को कैसे ठिकाने लगाया जाए । ये बातें आयकर विभाग और सरकार को भी मालुम है इसलिए विभाग ऐसे लोगों पर शिकंजा कसने का प्लान बना रहा है । 

कल हरियाणा और दिल्ली समेत कई जगहों पर आयकर विभाग ने छापेमारी कर करोड़ों बरामद किये । दिल्ली के इम्पीरियल सिनेमा के पास नोटों से भरी एक लाल रंग की कार पाई गई इस कर में 69 लाख का कैश था और ये सारा कैश 100-100 के नोट में था, जिसे तीन बैगों में भरकर रखा गया था । कार में दिलीप नाक का युवक मौजूद था जिसे पहाड़गंज पुलिस पूंछतांछ के लिए ले गई जो दिल्ली का डाक्टर बताया जा रहा है । 

इसके पहले हरियाणा के सोनीपत रेलवे स्टेशन के पास जीआरपी ने दो युवकों से 67 लाख रूपये जब्त किये जो बैंग में भरे हुए थे । दोनों युवकों को हिरासत में ले लिया गया जो पूंछतांछ के बाद खुद को कपडा व्यापारी बता रहे थे और दिल्ली के रोहिणी के निवासी हैं । बताया जा रहा है कि हवाला या कालेधन की हो सकती हैं । बैग में 500-1000 के नोट थे । 

Saturday, August 20, 2016

देश में कम्प्यूटर के जनक थे राजीव गांधी, इन्हें नहीं भूल सकते भारतीय

देश में कम्प्यूटर के जनक थे राजीव गांधी, इन्हें नहीं भूल सकते भारतीय

20 अगस्त 2016: भारत रत्न एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की 72वीं जयंती पर स्वयंसेवी संस्था ग्रामीण भारत के अध्यक्ष एवं हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व प्रवक्ता वेदप्रकाश विद्रोही ने अपने कार्यालय में उनके चित्र पर पुष्पाजंली अर्पित करके अपनी भावभीनी श्रद्घाजंली दी। कपिल यादव, अजय कुमार, अमन कुमार, प्रदीप यादव व कुमारी वर्षा ने भी श्री राजीव गांधी को अपने श्रद्घासुमन अर्पित किए। 

इस अवसर पर विद्रोही ने कहा कि देश को 21वीं सदी के लायक बनाने वाले व सूचना प्रौद्योगिकी तथा कम्प्यूटर का प्रवेश भारत में करने वाले श्री राजीव गांधी ने अपने मात्र दस वर्ष के राजनैतिक कैरियर में देश को उस महान ऊचांईयों पर पहुंचाया, जितना लोग वर्र्षाे की मेहनत के बाद भी नही पहुंचा पाते है।  जब लोह महिला व जननेत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के बलिदान के बाद 31 अक्टूबर 1984 को श्री राजीव गांधी ने देश के प्रधानमंत्री पद का प्रभार संभाला, तब किसी ने सोचा भी नही था कि यह युवा नेता देश में कम्प्यूटर व सूचना प्रौद्योगिकी की ऐसी क्रांति लायेगा कि जिससे दुनिया में भारत का ना केवल महत्व बढ़ेगा अपितु 21वीं सदी भारत की होगी। विद्रोही ने कहा कि आज पूरी दुनिया में भारत के लोग सूचना प्रौद्योगिकी में छाये हुए है, इसका सारा श्रेय श्री राजीव गांधी को ही जाता है। कम्प्यूटर व मोबाईल का प्रयोग देश का आम आदमी करके जिस तरह पूरी दुनिया से अपने आपको आज जोड़े हुए है और अपना व देश का विकास कर रहे है, उसका श्रेय भी श्री राजीव गांधी को ही जाता है। जो लोग राजीव गांधी के देश को कम्प्यूटर युग में ले जाने के अभियान का उस समय मजाक उड़ाते थे, वे आज राजीव गांधी के किये गए भगीरथ प्रयासों का श्रेय खुद लेने की होड़ में लगे हुए है। 

मात्र 40 वर्ष की आयु में देश के प्रधानमंत्री के रूप में श्री राजीव गांधी ने अपने मात्र पांच वर्ष के कार्यकाल में इतना काम देश को आगे ले जाने का किया, जितना कोई 20 वर्षो तक देश का प्रधानमंत्री रहकर भी नही कर पाता। विद्रोही ने कहा कि यह देश का दुर्भागय रहा है कि जब यह युवा नेता राजनीति में परिपक्व होकर देश को विश्व महाशक्ति बनाने की ओर ले जाना चाहता था, तब 21 मई 1991 को मात्र 47 वर्ष की आयु में लिट्टïे आंतकवादियों ने इस महान नायक को देश से छीन लिया। इतनी कम आयु में दुनिया के इतिहास में बिरले ही नेता हुए है, जिन्होंने श्री राजीव गांधी की तरह पूरी दुनिया में अपनी प्रतिभा व विचारों की छाप छोड़ी हो। देश की राजनीति में युवाओं को राजीव गांधी ने ना केवल विशेष भागीदारी दी अपितु उन्हे आज के भारत का नेतृत्व करने लायक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका भी निभाई।

 विद्रोही ने कहा कि श्री राजीव गांधी देश के लिए जीये और देश की एकता एवं अंखडता के लिए ही बलिदान हो गए। आज उनकी जयंती पूरे देश में सामाजिक सदभावना दिवस के रूप में मनाई जा रही है। आज हमे उनके दिखाये रास्ते पर चलते हुए आतंकवाद, जातिवाद, भ्रष्टïाचार, साम्प्रदायिकता व अन्याय के खिलाफ लडऩे का संकल्प लेकर जीवनभर देश में सामाजिक सदभाव बनाये रखने के लिए काम करने की शपथ लेकर ही हमे श्री राजीव गांधी को श्रद्घाजंली अर्पित करनी चाहिए।