Showing posts with label Haryana News. Show all posts
Showing posts with label Haryana News. Show all posts

Tuesday, March 28, 2017

लांच हुई मोर म्यूजिक की हरियाणवी नागिन, देखें वीडियो

लांच हुई मोर म्यूजिक की हरियाणवी नागिन, देखें वीडियो

चंडीगढ़ : कई सुपरहिट एलबम बना चुकी मोर म्यूजिक कंपनी ने एक नया सांग लांच किया है । इस गीत के बोल हैं तू नागिन बनके नाचेगी जब बाजे बीन सपेले की,  मोर म्यूजिक के कई गीत जिनमे सपना चौधरी के ऊपर फिल्माया गया है करोड़ों लोग यूं-ट्यूब पर देख चुके हैं । प्रिंस कुमार और अंजली राघव का ये गीत वाला वीडियो देखें

Monday, March 27, 2017

PM मोदी ने कहा था? इसलिए फरीदाबाद मेट्रो से पहुंचे CM खट्टर

PM मोदी ने कहा था? इसलिए फरीदाबाद मेट्रो से पहुंचे CM खट्टर

चण्डीगढ़, 27 मार्च - हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि राज्य में सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए विस्तृत योजना तैयार की गई है। राज्य में मेट्रो सेवा की जहां भी आवश्यकता महसूस की गई, उन स्थानों के बारे में प्रस्ताव तैयार किए जा चुके हैं। इनमें दिल्ली से कुण्डली (सोनीपत)फरीदाबाद-गुरुग्राम, गुरुग्राम से मानेसर व बावल, चण्डीगढ़ से पंचकूला आदि के बीच मेट्रो सेवा शामिल है।  
श्री मनोहर लाल ने आज यह जानकारी फरीदाबाद के बाटा चौक मेट्रो स्टेशन से नई दिल्ली के केंद्रीय सचिवालय के बीच मेट्रो ट्रेन में यात्रा करते हुए संवाददाताओं से बातचीत के दौरान दी। इस यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री का मेट्रो में सफर  कर रहे यात्रियों ने अभिवादन किया तथा मुख्यमंत्री ने मेट्रो में सफर कर रहे फरीदाबाद, गुरुग्राम व दिल्ली आदि स्थानों के निवासियों से बातचीत भी की और राज्य से जुड़े विभिन्न विषयों को लेकर लोगों से फीडबैक भी लिया और उनकी समस्याएं भी सुनी। मुख्यमंत्री के सादगी भरे व्यवहार और मिलनसार शैली की लोगों ने प्रशंसा भी की और मुख्यमंत्री के साथ फोटो भी खिंचवाई।  

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में पब्लिक मोड ऑफ ट्रैवलिंग का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने की बात कही है। हरियाणा सरकार की ओर से करनाल, गुरुग्राम व फरीदाबाद आदि शहरों में सिटी बस सर्विस को मजबूत किया जाएगा। वहीं फरीदाबाद के बल्लभगढ़ तक आने वाले छह महीनों में मेट्रो सेवा आरंभ होगी, वहीं दिल्ली से मुंडका से बहादुरगढ़ तक भी मेट्रो लिंक का निर्माण भी तेजी से जारी है। हरियाणा सरकार की ओर से सोनीपत के कुण्डली तक मेट्रो लाने की योजना भी दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के पास भेजी जा चुकी है।
उन्होंने कहा कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट के जरिए यात्रा करना उन्हें बेहद पसंद है। जब भी उन्हें अवसर मिलता है बिना किसी संकोच के वे सार्वजनिक परिवहन के साधनों का इस्तेमाल करते हैं। मुख्यमंत्री बनने के उपरांत उन्होंने शताब्दी एक्सप्रेस, वॉल्वो बस सेवा तथा मेट्रो ट्रेन में यात्रा की है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक परिवहन के जरिए सामान्य जन से सीधा संवाद करने का अवसर मिलता है। मेट्रो सेवा न केवल सुरक्षित व सुविधाजनक बल्कि इससे सडक़ मार्ग की अपेक्षा समय भी कम लगता है। 
हरियाणा के उद्योग मंत्री श्री विपुल गोयल फरीदाबाद के बाटा चौक मेट्रो स्टेशन पर मुख्यमंत्री को छोडऩे आए। वहीं भूमि सुधार एवं विकास निगम हरियाणा के चेयरमैन श्री अजय गौड़ भी मुख्यमंत्री के साथ केंद्रीय सचिवालय पहुंचे।
बेरोजगार युवाओं के लिए खट्टर ने उठाया ख़ास कदम

बेरोजगार युवाओं के लिए खट्टर ने उठाया ख़ास कदम

चण्डीगढ़, 27 मार्च - हरियाणा सरकार ने प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को दिया जाने वाला एक महीने का 3,000 रुपए का बेरोजगारी भत्ता उन उद्यमियों को देने का निर्णय लिया है जो अपने उद्योगों में युवाओं को रोजगार देंगे। 
यह घोषणा हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज फरदीबाद में पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्री तथा हरियाणा राज्य औद्योगिक सरंचना विकास निगम (एचएसआईआईडीसी) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित पांच दिवसीय हरियाणा इंटरनेशनल ट्रेड एक्सपो (हाईटैक्स) मेले के दौरान हरियाणा में युवा सशक्तिकरण, नौकरी के अवसर बढ़ाने के विषय पर आयोजित सत्र का उद्घाटन करने के बाद की। 
हाईटैक्स में विश्व के छ: देशों के कारोबारी भाग ले रहे हैं, जिन्होंने यहां अपने उत्पादों की प्रदर्शनी लगाई है। इसके अलावा यहां बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार मेले का भी आयोजन किया जा रहा है और साक्षात्कार भी लगातार जारी हैं। यह हाईटैक्स 28 मार्च तक चलेगा। अब तक मात्र दो दिन में 200 से अधिक युवाओं को अंतरराष्ट्रीय कंपनियों में रोजगार मिल चुका है।
हाईटैक्स मेले में मुख्य रूप से प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने पर बल दिया गया। साथ ही उद्यमियों में हरियाणा उद्यमी प्रोत्साहन नीति के महत्वपूर्ण बिंदुओं को प्रचारित करके उन्हें यह बताने का काम किया गया है कि हरियाणा किस तरह से निवेशकों की पहली पसंद है। मुख्यमंत्री ने इस प्रयास की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस प्रकार के जॉब फेयर प्रदेश के हर जिले में लगाए जाएं ताकि प्रत्येक जिला के युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सकें। 

उन्होंने युवाओं को देश के लिए एसेट बताते हुए कि हम उनका कौशल विकास करके सक्षम बनाकर उनकी प्रगति का रास्ता बनाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनसंख्या के मामले में भारत दुनिया में दूसरे स्थान पर है और हमारी जनसंख्या में 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष से कम आयु वर्ग के युवाओं की है। इस युवा शक्ति को सरकार हुनरमंद बनाना चाहती है, ताकि वे देश के साथ-साथ दुनिया के विभिन्न हिस्सों में रोजगार पा सकें। श्री मनोहर लाल ने कहा कि सरकार चाहती है कि हमारे युवा विश्व में सर्विस प्रोवाइडर की ताकत के रूप में खड़े हों। इसके लिए गुणात्मक और रोजगारपरक शिक्षा देने के साथ-साथ राज्य सरकार कौशल विकास के लिए भी काम कर रही है। हरियाणा में कौशल विकास मिशन का गठन किया गया और कौशल विकास विश्वविद्यालय की स्थापना का कार्य भी जिला पलवल में शुरू हो चुका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार फाइनल ईयर में शिक्षा के साथ-साथ विद्यार्थियों के लिए कोई ऐसा पाठयक्रम जोडऩे पर विचार कर रही है जिससे कि वे निजी क्षेत्र में रोजगार हासिल करने अथवा स्वरोजगार शुरू करने के लायक बन सकें। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकारी नौकरियां सीमित हैं, सभी को नहीं मिल सकती। हर वर्ष लगभग दो लाख युवा शिक्षा ग्रहण करके निकलते हैं। प्रदेश में शुरू की गई सक्षम युवा योजना का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पोस्ट ग्रैजुएट तथा ग्रैजुएट युवाओं को 100 घंटे काम करने पर 9000 रुपए का मानदेय दिया जा रहा है। सरकार की योजना है कि इसी प्रकार दस जमा दो उत्तीर्ण विद्यार्थियों को भी छ: हजार रुपए का मानदेय दिया जाए। यह मानदेय तीन साल के लिए होगा। 

उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि बेरोजगार युवा जल्द से जल्द सक्षम  पोर्टल पर अपना पंजीकरण करें और जल्द से जल्द रोजगार का रास्ता खोजकर नया जीवन शुरू करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पोर्टल पर उद्यमियों को भी एक्सेस दिया जाएगा ताकि वे अपनी जरूरत के अनुसार युवाओं का चयन करके अपने उद्योगों में रोजगार प्रदान कर सकें। उन्होंने कहा कि देश की सशस्त्र सेनाओं में हरियाणा के जवानों की संख्या काफी है। जिसे देखते हुए राज्य सरकार ने रक्षा मंत्रालय से प्रदेश में विशेष भर्ती केंद्र खोलने का आग्रह किया है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार हरियाणा को खेलों का हब बनाना चाहती है। इसके लिए खेल विद्यालय राई को प्रदेश की पहली स्पोर्टस यूनिवर्सिटी का दर्जा दिया गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार प्रदेश का स्टेट रैजीडेंट डाटाबेस तैयार कर रही है। जिससे हर वर्ग की कल्याणकारी योजनाएं बनाई जा सकेंगी। यह कार्य आगामी छ: माह में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। 
इससे पहले कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए हरियाणा के उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री श्री विपुल गोयल ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए बिजनेस फ्रैंडली माहौल तैयार किया है। पिछले वर्ष गुुरुग्राम में आयोजित हैपनिंग हरियाणा गलोबल इनवैस्टर्स समिट में एक लाख करोड़ रुपए के एमओयू के लक्ष्य के विरूद्ध लगभग छ: लाख करोड़ रुपए के एमओयू हुए हैं। जिनमें से अब तक डेढ़ लाख करोड़ रुपए के एमओयू पर काम भी शुरू हो चुका है। श्री गोयल ने सक्षम युवा योजना का उल्लेख करते हुए बताया कि इस पोर्टल पर 9000 पोस्ट ग्रैजुएट युवाओं ने अपना पंजीकरण करवाया था, जिसमें 1356 आवेदकों को नौकरी प्रदान की जा चुकी है। उन्होंने यह भी बताया कि स्वर्ण जयंती वर्ष में समाज के हर वर्ग के लिए सरकारी विभाग नई-नई योजनाएं लागू कर रहे हैं।
इस अवसर पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स के अध्यक्ष श्री गोपाल जीवराजका ने मुख्यमंत्री तथा अन्य अतिथियों का स्वागत करते हुए हरियाणा सरकार की रोजगार सृजन तथा युवाओं के कौशल विकास की योजनाओं की प्रशंसा की और राज्य सरकार की उद्यमी प्रोत्साहन नीति का समर्थन किया। चैंबर के चेयरमैन प्रणव गुप्ता ने राज्य सरकार द्वारा उद्यमियों की सुविधा के लिए शुरू की गई एकल खिडक़ी योजना की सराहना करते हुए कहा कि इससे 45 दिन में कोई भी नया उद्योग स्थापित करने की स्वीकृति तथा अन्य औपचारिकताएं पूरी हो रही है।
एक अप्रैल से होगी पशुओं की नसबंदी, हरियाणा में अब आसानी से नहीं आ पाएंगे बाहर के पशु

एक अप्रैल से होगी पशुओं की नसबंदी, हरियाणा में अब आसानी से नहीं आ पाएंगे बाहर के पशु

चण्डीगढ़, 27 मार्च- हरियाणा पशुपालन विभाग द्वारा ऐसी व्यवस्था की जा रही है जिसके अनुसार दूसरे राज्यों से प्रदेश की सीमा में पशुओं का प्रवेश कराने वाले व्यक्तियों के लिए सभी पशुओं का रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य होगा।

विभाग के महानिदेशक श्री जी.एस. जाखड़ ने बताया कि राजस्थान से हर साल हजारों गाय व दूसरे पशुओं का प्रदेश में चारे की तलाश में प्रवेश कराया जाता  है। इनमें से काफी पशु यहीं रह जाते हैं और बड़ी परेशानी पैदा करते हैं। वापस जाते समय यदि उनके पास कोई पशु नहीं है तो उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट प्रस्तुत करनी होगी।
उन्होंने बताया कि प्रदेश में एक अप्रैल से एक महीने तक पशुओं की नसबंदी का अभियान चलाया जाएगा। पिछले वर्ष 1 से 15 जून तक चले अभियान में 25 हजार पशुओं की नसबंदी की गई थी ।

15 अगस्त तक सडक़ों पर घूमने वाले आवारा पशुओं से मुक्त कर दिया जाएगा हरियाणा

15 अगस्त तक सडक़ों पर घूमने वाले आवारा पशुओं से मुक्त कर दिया जाएगा हरियाणा

चण्डीगढ़, 27 मार्च- हरियाणा के मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव श्री राकेश गुप्ता ने कहा कि प्रदेश को जल्द ही सडक़ों पर घूमने वाले आवारा पशुओं से मुक्त कर दिया जाएगा। इसके लिए पूरे प्रदेश में समुदाय आधारित कार्ययोजना तैयार की गई है। अब तक पंचकूला, नूंह और यमुनानगर जिलों को सडक़ों पर घूमने वाले आवारा पशुओं से मुक्त कर दिया गया है। 
श्री गुप्ता आज सोनीपत के जिमखाना क्लब में स्ट्रे कैटल (खुले में घूमने वाले पशु) मुक्त कराने की कार्ययोजना के दूसरे चरण में प्रदेश के 11 जिलों के उपायुक्तों व अन्य अधिकारियों की मीटिंग को संबोधित कर रहे थे। 
श्री गुप्ता ने बताया कि जून 2017 तक प्रदेश के अधिकतर जिले आवारा पशुओं से फ्री हो जाएंगे और 15 अगस्त तक पूरे हरियाणा को इनसे मुक्त कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अक्टूबर 2016 में आदेश दिए थे कि प्रदेश में सडकों पर खुले घूमने वाले अवारा पशुओं के पुर्नवास के लिए बेहतरीन योजना तैयार की जाए। इसके लिए देशभर के बेहतरीन मॉडल का अध्ययन किया जाए ताकि लोगों को धार्मिक भावनाओं का भी ख्याल रहे और यह आर्थिक मॉडल लंबे समय तक कार्य कर सके। 
उन्होंने बताया कि अध्ययन करने पर पाया गया कि सिरसा, फतेहाबाद और हिसार जिलों में समुदाय (ग्राम पंचायतों, सामाजिक धार्मिक संस्थाओं, समाजसेवियों) को साथ लेकर इस दिशा में बेहतरीन कार्य किए जा रहे हैं। खासकर फतेहाबाद जिला ने इस क्षेत्र में सबसे बढिया कार्य किया है और लोगों ने खुद गांवों में फाटक तैयार कर पशुओं को उसके अंदर रखा और उनके चारे का प्रबंध भी किया हुआ है। 

मुख्यमंत्री ने इसी समुदाय आधारित मॉडल को ध्यान में रखते हुए कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश जारी किए। सभी जिला उपायुक्तों, अतिरिक्त उपायुक्तों व डीडीपीओ की मीटिंग बुलाई गई। 23 दिसंबर को करनाल में प्रदेश के 11 जिलों नूह, यमुनानगर, फतेहाबाद, पानीपत, हिसार, पंचकुला, रेवाड़ी, अंबाला, सिरसा, करनाल और कुरुक्षेत्र की मीटिंग बुलाई गई और कार्ययोजना तैयार की गई। एक महीने तक सभी जिलों के सीएमजीजीए के माध्यम से योजना तैयार की गई। इसके बाद 15 जनवरी तक नूह, फरवरी के पहले सप्ताह में यमुनानगर और 28 फरवरी तक फतेहाबाद को आवारा भटकने वाले पशुओं से मुक्त कर दिया गया। पंचकुला और अंबाला को अप्रैल तक और पूरे प्रदेश को 15 अगस्त तक स्ट्रे कैटल फ्री कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि पहले चरण के 11 जिलों में 45 हजार पशुओं को चिह्नित किया गया था और इनमें से 17 हजार पशुओं को विभिन्न बाड़ों, नंदशाला और गौशालाओं में शिफ्ट कर दिया गया है। 
मीटिंग में सोनीपत के उपायुक्त के मकरंद पांडुरंग, पानीपत के उपायुक्त चंद्रशेखर खरे, रोहतक के उपायुक्त अतुल कुमार चरखी दादरी के उपायुक्त विजय कुमार, पलवल के उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा, यमुनानगर के उपायुक्त आरएस खर्ब, नारनौल के उपायुक्त राजनारायण कौशिक, कैथल के उपायुक्त संजय जून, झज्जर के उपायुक्त रमेश चंद्र बिधान, जींद के उपायुक्त विनय कुमार, गुरूग्राम के उपायुक्त हरदीप सिंह, गुडगांव नगर निगम के कमिश्नर अमित खत्री सहित सभी जिलों के अतिरिक्त उपायुक्त, नगर निगम कमिश्नर, डीडीपीओ सहित कई विभागों के अधिकारी मौजूद थे। 

समुदाय को जोडक़र काम किया तो सामने आए बेहतर परिणाम समीक्षा मीटिंग में फतेहाबाद के अतिरिक्त उपायुक्त जयकिशन ने समुदाय आधारित मॉडल पर अपनी प्रस्तुती दी। उन्होंने बताया कि दो नंदियों की लड़ाई में एक युवक की मौत के बाद उन्होंने फतेहाबाद में इनके समाधान पर काम करना शुरू किया। आवारा घूमने वाले पशुओं से मुक्त करने के लिए कई कदम उठाए गए। लोगों को जागरूक किया गया और गांवों में सरपंचों के समूह तैयार करवाए गए ताकि लोगों से सीधा संवाद किया जा सके। ओडीएफ मिशन के तहत लगे युवाओं के जरिए गांवों में पशुओं की संख्या की गणना की गई और पशुपालन विभाग के माध्यम से आंकड़े सुनिश्चित किए गए। गांवों में लोगों के साथ मिलकर तालाबों के आस-पास डेढ़ से दो एकड़ में फाटक तैयार करवाए गए ताकि वहां 150 से 200 पशुओं को रखा जा सके। 
लोगों को साथ जोड़ा गया जिनमें गांवों के पंच, सरपंच, धार्मिक संगठन, सामाजिक संगठन, प्राईवेट संस्थान, किसान शामिल थे। इन पशु बाड़ों का प्रबंधन, चारे की व्यवस्था भी इन्हीं को सौंपी गई। शहरी क्षेत्रों में एक हजार से लेकर 1500 पशुओं तक की नंदीशालाएं स्थापित की गई। फतेहाबाद में फिलहाल 30 नंदीशालाएं स्थापित हो चुकी हैं और 80 ऐसी व्यक्तिगत जगह हैं जहां पशुओं को रखा गया है। 

मीटिंग में जिला सोनीपत की कार्ययोजना की प्रस्तुती देते हुए उपायुक्त के मकरंद पांडुरंग ने बताया कि सोनीपत में मौजूदा समय में 24 गौशालाएं हैं और इनमें 27 हजार गौधन रखा गया है। 4500 घूमंतू पशु हैं। उन्होंने बताया कि जिला में 250 एकड़ में विशाल गौ अभ्यारण्य तैयार किया जा रहा है यहां गोधन को प्राकृतिक आवास मुहैया करवाया जाएगा। इसके साथ ही हरसाना में नगर निगम द्वारा नंदीशाला तैयार की गई हैं और यहां 700 नंदी रखे गए हैं। कुमासपुर गांव में साढ़े 18 एकड़ में दूसरी नंदीशाला तैयार की जा रही है। उन्होंने बताया कि जुलाई के अंत तक जिला को आवारा पशुओं से मुक्त कर दिया जाएगा।    
अतिरिक्त मुख्य सचिव राकेश गुप्ता ने बताया कि प्रदेश में वन विभाग, पीडब्लूडी व हुडा विभाग को बड़ी मात्रा में पौधों के लिए गोबर की खाद की जरूरत होती है और वे गोबर की खाद मार्केट से नहीं बल्कि नंदीशालाओं से खरीदें। ऐसे में सभी नंदीशालाएं सुदृढ़ हों इसके लिए इन विभागों को नंदीशालाओं से ही आर्गेनिक खाद खरीदने के लिए कहा जाएगा। हिसार ऐसा पहला जिला है जहां सभी विभागों को इस बाहर से आर्गेनिक खाद खरीदने के लिए प्रशासन से एनओसी लेनी होगी। यहां 13 हजार 463 नंदियों में से 6273 अलग अलग गौशालाओं व नंदीशालाओं में शिफ्ट कर दिए गए हैं बाकी का काम जारी है। 31 पशुबाड़े बन चुके हैं।