Showing posts with label India news. Show all posts
Showing posts with label India news. Show all posts

Wednesday, July 26, 2017

डूबती जहाज से उतर भागे नीतीश कुमार, जल्द कहेंगे हर हर मोदी, घर घर मोदी?

डूबती जहाज से उतर भागे नीतीश कुमार, जल्द कहेंगे हर हर मोदी, घर घर मोदी?

Know Bihar CM Nitish Kumar Resigned
नई दिल्ली। पटना: बिहार में दो हफ़्तों से इज्जत और नाक की लड़ाई चल रही थी। इस लड़ाई में नीतीश कुमार जीत संभव है क्यू कि नीतीश यदि लालू के साथ रहते तो कहा जाता कि नीतीश भ्रष्टाचारियों का साथ दे रहे हैं और लालू के लिए ये इज्जत और नाक का सवाल था क्यू की वो अगर तेजस्वी का स्तीफा दिलवाते तो कहा जाता कि सच में लालू यादव का परिवार भ्रष्ट है। नीतीश ने समझदारी से काम लिया और स्तीफा दे दिया।  अब लालू के दोनों बेटे मंत्री नहीं रहे, नीतीश की बात करें तो वो खुद को दागदार का साथी कहलाने से बच गए।  शायद यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीतीश के त्यागपत्र के बाद ही एक ट्वीट कर दिया। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीतीश कुमार को बधाई दी। उन्होंने   ट्वीट किया, ''भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लड़ाई में जुड़ने के लिए नीतीश कुमार जी को बहुत-बहुत बधाई. सवा सौ करोड़ नागरिक ईमानदारी का स्वागत और समर्थन कर रहे हैं. देश के, विशेष रूप से बिहार के उज्जवल भविष्य के लिए राजनीतिक मतभेदों से ऊपर उठकर भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ एक होकर लड़ना,आज देश और समय की मांग है।  खास सूत्रों की मानें तो नीतीश कुमार कई महीने से लालू का साथ छोड़ना चाहते थे।  उन्हें पता है कि आने वाला दस साल भाजपा का है इसलिए एनडीए का हिस्सा बनने के लिए बेताब थे।  अब मौका मिल गया और डूबती हुई जहाज से भाग निकले। पूरी कहानी कल। 

सोशल मीडिया के माध्यम से बेंचता है देशी विदेशी हथियार, कहता है,  है अपनी सरकार

सोशल मीडिया के माध्यम से बेंचता है देशी विदेशी हथियार, कहता है, है अपनी सरकार

नई दिल्ली/ लखनऊ: सोशल मीडिया फायदे की चीज ही नहीं इससे बड़े बड़े खतरनाक काम भी हो रहे हैं। जम्मू- कश्मीर में सोशल मीडिया आतंकियों और पत्थरबाजों को बड़ा फायदा पहुंचा रही है तो सोशल मीडिया पर बड़े बड़े सेक्स रैकेट चलाये जा रहे हैं। व्हट्सएप पर तस्वीरें भेज रेट तय होते हैं। उत्तर प्रदेश से एक चौंकाने वाली खबर आ रही है जहाँ सोशल मीडिया पर हथियार बेंचे जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश के बरेली का ये मामला है जहां बसेड़ी तहसील के महेंद्र गुप्ता जो जिला पीलीभीत के निवासी बताये जा रहे हैं। महेंद्र गुप्ता का सुनील कुमार गुप्ता बसेड़ी से विवाद चल रहा है। विपक्षी के तीन पुत्र हैं जिनका दबंगों और अपराधियों से संपर्क है। उसके तीन पुत्रों में शिवम् उर्फ़ शैंकी फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से हथियारों का व्यापार करता है। 

शैंकी फेसबुक और व्हट्सएप पर देशी बिदेशी  हथियारों की तस्वीर डाल उसका सौदा करता है और अगर कोई कुछ पूंछता है तो कहता है अपनी सरकार है।  इसकी शिकायत केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार से की गई है। केंद्रीय मंत्री गंगवार ने एसएसपी जोगेंद्र से पूरे मामले की जांच करने के आदेश दिए हैं। कुछ तस्वीरों में जाने पूरा मामला। ऊपर हथियार की तस्वीर भी शैंकी के द्वारा व्हट्सएप पर भेजी गई हैं। किसी पाठक ने मुझे ये सब भेजा है एक बड़े अखबार में आज ये खबर भी छपी है लेकिन सोशल मीडिया की किसी भी तस्वीर को मैं पुख्ता रिपोर्ट नहीं कह सकता। 


संसद में कांग्रेस, SP, JDU के नेताओं ने कहा कि 2000 के नोट बंद कर रहे हो तो हमें बता दो

संसद में कांग्रेस, SP, JDU के नेताओं ने कहा कि 2000 के नोट बंद कर रहे हो तो हमें बता दो

नई दिल्ली: आठ नवम्बर को अचानक नोटबंदी हुई जिसके बाद कई बड़ी पार्टियों के नेता चिल्लाते रहे कि ये फैसला अचानक क्यू लिया गया। उन्हें बताया क्यू नहीं गया। कहावत है कि दूध का जला छाझ फूंक-फूंक कर पीता है आज संसद में कुछ ऐसा ही दिखा। कुछ दिनों से अफवाह है कि 2000 के नोट बंद होने वाले हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ पांच महीने से दो हजार के नोट छपने बंद हो गए हैं।  इस खबर के बाद लोग सोंचने लगे हैं कि शायद बहुत जल्द दो हजार की नोटें बंद हो जाएँ। नोटबंदी अचानक हुई थी इस कारण कई बड़े नेता अपना माल ठिकाने नहीं लगा पाए थे। नोटबंदी के बाद कई पार्टियों के नेताओं ने अपने खाते में करोड़ों जमा करवाए थे जिस मामले में कई नेताओं पर जांच भी चल रही है। 

संसद में मानसून सत्र चल रहा है। आज समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने सवाल पूंछा कि क्या दो हजार के नोट बंद होने वाले हैं? उन्होंने सदन की कार्यवाही का संचालन कर रहे उपसभापति पी. जे. कुरियन से कहा कि जब परंपरा रही है कि संसद सत्र के दौरान सरकार अगर नीतिगत फैसले लेती है तो सदन को बताया जाता है। ऐसे में इस बात की भी जानकारी देनी चाहिए कि क्या सरकार ने रिजर्व बैंक को 2000 रुपये के नोटों की छपाई बंद करने को कहा है। कांग्रेस नेता गुलाम नवी आजाद और जेडीयू सांसद ने भी जानना चाहा कि क्या सच में ऐसा होने वाला है। 
 मालुम हो कि पिछले दिनों मीडिया में 2000 रुपये के नोटों को लेकर अलग-अलग तरह की खबरें आई थीं जिनमें इनकी छपाई बंद होने तक की बात भी कही गई थी। इससे पहले 200 रुपये के नोट लाए जाने की भी खबरें आ चुकी हैं। 
जल्द दबोचे जायेंगे कश्मीर के पत्थरबाजों के 48 गैंगेस्टर, NIA को बड़ी कामयाबी

जल्द दबोचे जायेंगे कश्मीर के पत्थरबाजों के 48 गैंगेस्टर, NIA को बड़ी कामयाबी

New Delhi 26 July 2017: जम्मू-कश्मीर में एनआईए बहुत बड़ी कार्यवाही करने जा रही है। हाल में गिरफ्तार कई अलगाववादी नेता रिमांड पर हैं जिनसे कई चौंकाने वाले खुलासे हो सकते हैं। एनआईए ने अभी तक अपनी जांच पड़ताल में पाया है कि जम्मू-कश्मीर में 48 लोग पत्थरबाजों के आका हैं। एनआईए ने 110 पेज की रिपोर्ट तैयार की है जिसमे इन 48 लोगों के नाम और मोबाइल नंबर हैं। ये सभी पत्थरबाजों के गैंगेस्टर हैं। उधर कल गिरफ्तार किया गया अलगाववादी नेता  शब्बीर शाह आज दिल्ली लाया गया है। शब्बीर शाह के भी काल डिटेल से कई जानकारियां मिल सकतीं हैं। 
इस मामले में एनआईए जिस तरह जांच कर रही है उससे लगता है कि जम्मू-कश्मीर के पत्थरबाज अब नहीं बचेंगे। इनके सभी आका जल्द जेल में होंगे। एनआईए सूत्रों के मुताबिक़ इन पत्थरबाजों का पूरा नेटवर्क व्हट्सएप से चलाया जा रहा था जिनमे कई ग्रुपों के एडमिन पाकिस्तान से हैं। जब सेना किसी आतंकवादी को घेरती थी तो व्हट्सएप ग्रुपों में जानकारी देकर स्थानीय पत्थरबाजों को बुलाकर सेना पर पत्थर बरसवाये जाते थे। 

मोदी का नाम लेकर अधिकतर चुनाव जीत लेती है BJP, राहुल के नाम पर कांग्रेस की खड़ी हो रही है खटिया

मोदी का नाम लेकर अधिकतर चुनाव जीत लेती है BJP, राहुल के नाम पर कांग्रेस की खड़ी हो रही है खटिया

PM Modi Rahul Gandhi
नई दिल्ली: देश में कांग्रेस के बुरे दिन आते चले जा रहे हैं। राष्ट्रपति चुनावों के बाद उपराष्ट्रपति चुनाव भी भाजपा बिना किसी कठिनाई से जीत जाएगी। देश के लगभग सभी बड़े पदों पर भाजपा का कब्जा होता जा रहा है। कई बड़े राज्यों में भाजपा की सरकारें बन गईं हैं। 2014 के बाद भाजपा को निगमों, नगर पालिकाओं के चुनावों में भी बड़ी जीत मिली जबकि कांग्रेस की हार लगातार जारी है। भाजपा अपने कांग्रेस मुक्त भारत नारे की तरफ आगे कदम बढ़ाती चली जा रही है जबकि कांग्रेस भाजपा के सपनों पर विराम नहीं लगा पा रही है। उपराष्ट्रपति पद के चुनाव के साथ भारतीय राजनीति के साठ दशक में यह पहला मौक़ा होगा जब देश के तीन प्रमुख पदों पर ग़ैर कांग्रेसी राजनीति से आए व्यक्तित्व क़ाबिज़ होंगे। कांग्रेस को गंभीर मनन की जरूरत है कि आखिर उसकी किस गलती के कारण ऐसा हो रहा है। 

2014 के बाद जितने भी चुनाव हुए भाजपा मोदी के नाम पर जीती है। नगर निगमों और नगर पालिकाओं के चुनावों में भाजपा ने मोदी के नाम पर वोट माँगा और कामयाब हुई जबकि कांग्रेस के पास ऐसा कोई चेहरा नहीं था जिसके नाम पर वो वोट बटोर सके। जब से अफवाह है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बनेंगे और उनके नेतृत्व में 2019 का चुनाव लड़ा जायेगा तबसे कांग्रेस की हार का आंकड़ा बढ़ता चला जा रहा है। भाजपा मोदी-मोदी करते अधिकतर चुनाव जीतती जा रही है और कांग्रेस राहुल-राहुल करते अधिकतर चुनाव हारती चली जा रही है। 

कांग्रेस के लिए केंद्र में उपज रहा शून्य कांग्रेस और पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल तोड़ता जा रहा है। युवा कांग्रेसियों को अपने राजनीतिक भविष्य की चिंता सताने लगी है। कहावत है कि घर का मुखिया अगर समझदार हो तो वो परिवार को जोड़े रखता है, परिवार पर मुसीबत नहीं आने देता लेकिन घर का मुखिया कमजोर है तो घर बिखर जाता है। कांग्रेस का परिवार बिखर रहा है। संदेह के घेरे में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का नेतृत्व है। सत्ता परिवर्तन के साथ-साथ टीम मोदी व्यवस्था परिवर्तन भी करती चली जा रही है जो कांग्रेस के लिए चिंता का विषय है। बहुत जल्द गुजरात हिमांचल सहित कुछ राज्यों में चुनाव होने हैं,  यदि इन चुनावों में भी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह बीजेपी को विजय की दहलीज पर ले जाने में कामयाब रहते हैं, तो निसंदेह विपक्ष की राह 2019 के लिए बहुत कठिन हो जाएगी। कांग्रेस को अपनी राजनीति में बड़े बदलाव की जरूरत है। 
अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार कर NIT ने किया पत्थरबाजों के आकाओं का नेटवर्क ध्वस्त

अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार कर NIT ने किया पत्थरबाजों के आकाओं का नेटवर्क ध्वस्त

SHABBIR-SHAH-ARRESTED-BY-ed
नई दिल्ली: पाकिस्तान के पालतू आतंकवादियों के कारण जम्मू-कश्मीर में अमन चैन का माहौल लगातार खराब होता जा रहा था। विपक्ष केंद्र सरकार को घेर रही थी। लगातार हो रहे आतंकी हमले से केंद्र सरकार भी परेशान थी और हाल में अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमला हुआ जिस कारण देश हिल गया था। सुरक्षाबलों की राह का रोड़ा सबसे ज्यादा स्थानीय पत्थरबाज बनते थे लेकिन अब पत्थरबाजों के आकाओं की पोल खुलने लगी है। हाल में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने  सात कश्मीरी अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार किया था।  गिरफ्तार नेताओं में नईम खान, फारूक अहमद डार उर्फ बिट्टा कराटे, अल्ताफ अहमद शाह, शाहिद-उल-इस्लाम, अयाज अकबर, पीर सैफुल्ला तथा राजा मेहराजुद्दीन कलवल शामिल थे जिनमे अल्ताफ शाह जम्मू एवं कश्मीर को पाकिस्तान के साथ मिलाने की पैरवी करने वाले हुर्रियत के कट्टरपंथी धड़े के नेता सैयद अली गिलानी के दामाद हैं। 

कल कश्मीर के अलगाववादी नेता शब्बीर शाह को ईडी ने गिरफ्तार कर लिया। शाह को एक दशक पुराने मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार किया गया है। शाह को आज दिल्ली लाया जा रहा है जहाँ उन्हें  अदालत के सामने पेश किया जाएगा। एनआईए ने काफी जांच पड़ताल के बाद इन सभी नेताओं की गिरफ्तारी की है और एनआईए के पास पुख्ता सबूत हैं कि ये पत्थरबाजों के आका थे और इनके कारण ही जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजों के हौसले बुलंद थे। इन नेताओं की गिरफ्तारी से साफ़ हो गया कि जम्मू-कश्मीर में जो बारदातें हो रहीं हैं इन अलगाववादियों के इशारे पर हो रहीं हैं। 

जम्मू-कश्मीर के पत्थरबाजों के बहाने ये अलगांववादी पाकिस्तान ने मोटा पैसा लेते थे, कुछ पत्थरबाजों को बांटते थे कुछ अपने प[आस रखते थे। इन्होने पत्थरबाज पालने के नाम पर कमाई का धंधा ढूंढ निकाला था। सोमवार गिरफ्तार किये गए सभी अलगाववादी नेता 10 दिन की रिमांड पर हैं जबकि शब्बीर को आज अदालत में पेश कर रिमांड पर लिया जा सकता है। इन लोगों से चौंकाने वाले खुलासे हो सकते हैं। एक जानकारी के मुताबिक़ ईडी ने शब्बीर  शाह को कई बार समन भेजे थे पर वह कभी भी पेश नहीं हुआ। इसी महीने दिल्ली की अदालत में अलगाववादी नेता के खिलाफ नॉन बेलेबल वॉरंट जारी किया गया था।
सेना चीफ को सड़क का गुंडा कहने वाले कांग्रेसी नेता संदीप दीक्षित पर FIR दर्ज

सेना चीफ को सड़क का गुंडा कहने वाले कांग्रेसी नेता संदीप दीक्षित पर FIR दर्ज

नई दिल्ली/ लखनऊ : पिछले महीने सेना चीफ के खिलाफ एक बयान देने वाले कांग्रेसी नेता संदीप दीक्षित की मुश्किलें अब भी कम नहीं हो रहीं हैं। लखनऊ में उनके ऊपर एफआईआर दर्ज करवा दी गई है। लखनऊ के हुसैनगंज के ये एफआईआर दर्ज करवाई गई है।

मालुम हो कि कांग्रेस के पूर्व सांसद संदीप दीक्षित ने थलसेना प्रमुख जनरल विपिन रावत के सार्वजनिक बयानों को लेकर उनकी की तुलना सड़क के गुंडे से कर दी थी। उनके इस बयान के बाद भारतीय राजनीति में विवाद पैदा हो गया था बाद में चौतरफा आलोचना के बाद दीक्षित ने अपना बयान वापस लिया और माफी भी मांगी थी।


Tuesday, July 25, 2017

गुजरात में बारिश से भारी तवाही, घरों की छतों पर खड़े बचाओ, बचाओ चिल्ला रहे हैं हजारों लोग

गुजरात में बारिश से भारी तवाही, घरों की छतों पर खड़े बचाओ, बचाओ चिल्ला रहे हैं हजारों लोग

नई दिल्ली: देश के कई राज्यों में बारिश ने विकराल रूप धारण कर लिया है। सबसे ज्यादा तवाही गुजरात में हुई है जहां कई लोगों की बाढ़ से मौत हो गई है, सैकड़ों लोग अब भीं जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। आज एयर फ़ोर्स के जवानों ने सैकड़ों लोगों की जान बचाई। बारिश से कई कई माजिला इमारतों के निचली मंजिलों में पानी भरने के कारण लोगों छतों पर जान बचाने की गुहार लगा रहे हैं ऐसे में एयर फ़ोर्स के जवान कई लोगों के लिए भगवान् बन उन्हें हेलीकाफ्टर से एयरलिफ्ट किया। लोग घरों की छतों पर बचाओ बचाओ चिल्ला रहे हैं ऐसे में जवान उन्हें बचा भी रहे हैं। दोपहर बाद प्रधानमंत्री अचानक गुजरात पहुंचे जहां उन्होंने बाढ़ के प्रभावित जिलों का हवाई सर्वे किया। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाढ़ से मरने वालों के परिवारों को दो-दो लाख और घायलों को पचास-पचास हजार की राशि देने का एलान किया है। देखें एक वीडियो कैसे जान पर खेल कर जवान बचा रहे हैं लोगो की जान 
राष्ट्रपति कोविंद ने शुरू किया कामकाज, लोगों ने कहा जय श्री राम

राष्ट्रपति कोविंद ने शुरू किया कामकाज, लोगों ने कहा जय श्री राम

Ramnath-kovind-president-india
नई दिल्ली: देश के कई बड़े नेताओं में अच्छा कामकाज करने की होड़ लगी है जो देश की जनता के लिए आने वाले समय में अच्छे दिन जरूर लाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार बिना रुके कई घंटे काम करते हैं। ठीक ऐसे उत्तर प्रदेश के सीएम आदित्यनाथ योगी और भाजपा के कई नेता काम करते दिखते हैं। कोई पौंधा तुरत फल नहीं देता, समय लगता है इसलिए इन नेताओं के कामकाज देखकर ऐसा लगता है कि देश की जनता का भविष्य सुरक्षित है। अभी तक मोदी-योगी ऐसा करते दिखते अब महामहिम भी कुछ ऐसे ही दिख रहे हैं।

आज रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति की शपथ ली और शपथ लेने के कुछ देर बाद ही अपना कामकाज देखने लगे। ट्विटर पर प्रेजिडेंट आफ इंडिया के पेज पर कोविंद की तस्वीर पोस्ट की गई है जिस पर कई प्रतिक्रियाएं आ रहीं हैं। पढ़ें वो ट्वीट और प्रतिक्रियाएं




और बढ़ेंगे टमाटर के दाम, कई राज्यों में भारी बारिश से सब्जियों की आवाक में कमी

और बढ़ेंगे टमाटर के दाम, कई राज्यों में भारी बारिश से सब्जियों की आवाक में कमी

नई दिल्ली/फरीदाबाद: देश के कई राज्यों में भारी बारिश हो रही है। भारी बारिश से गुजरात के स्कूल कालेज बंद हो गए हैं तो राजस्थान के कई जिलों में बारिश भारी तवाही मचा रही है। दक्षिण बंगाल के विभिन्न हिस्सों में शनिवार से लगातार बारिश हो रही है जिस कारण बीरभूम, बांकुड़ा, पश्चिम मेदिनीपुर, हुगली और बर्दवान जिले के हजारों परिवार बारिश की चपेट में हैं। बारिश के कारण देश के कई हिस्सों में रोजाना जरूरत की चीजों की सप्लाई नहीं हो पा रही है। कई राज्यों में सब्जियों के दाम आसमान छूने लगे हैं। अभी तक सिर्फ टमाटर के बढे दाम से लोग परेशान थे अब करेला, भिंडी और फूलगोभी के दाम भी आसमान छूने लगे हैं। 

कई राज्यों में बारिश के कारण दिल्ली एनसीआर की सब्जी मंडियों में कई तरह की सब्जियों की सप्लाई नहीं हो पा रही है। एक हफ्ते पहले 40 रूपये प्रति किलो बिक रही फूलगोभी भी 100 रूपये प्रति किलो पहुँच गई है। एक हफ्ते पहले 30 रूपये प्रति किलो बिकने वाला करेला 80 रूपये प्रति किलो तक पहुँच गया है। सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि कई हफ़्तों तक कई तरह की सब्जियों के दाम घटने की कोई उम्मीद नहीं है। सब्जी विक्रेताओं की मानें तो भारी बारिश के कारण सब्जियों की फसलें तवाह हो गईं हैं जिस कारण सब्जियों की आवाक बहुत कम हो गई है। फरीदाबाद की डबुआ सब्जी मंडी के आढ़ती इरफ़ान ने बताया कि जिस तरह कई राज्यों में बारिश ही रही है उसे देख लगता कि टमाटर सहित कई सब्जियों के घटने के बजाय और बढ़ेंगे। इरफ़ान का कहना है कि हरियाणा से  सप्लाई की जा रहीं सब्जियों की आवाक बहुत कम हो गई है जिस कारण दिल्ली एनसीआर में सब्जियों के दाम अचानक बढ़ गए हैं। उन्होंने बताया कि फिलहाल मंडी में टमाटर का थोक भाव 80 से 100 रूपये प्रति किलो है लेकिन इसके दाम और बढ़ सकते हैं। 
मैं मिट्टी के घर में पलकर बढ़ा हूँ, देश के सवा सौ करोड़ लोगों को नमन करता हूँ, रामनाथ कोविंद

मैं मिट्टी के घर में पलकर बढ़ा हूँ, देश के सवा सौ करोड़ लोगों को नमन करता हूँ, रामनाथ कोविंद

नई दिल्ली: रामनाथ कोविंद ने अभी कुछ मिनट पहले देश के 14वे राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण किया जिसके बाद अब प्रणब मुखर्जी पूर्व राष्ट्रपति कहलायेंगे। जस्टिस जेएस खेहर ने रामनाथ कोविंद को राष्‍ट्रपति पद की शपथ दिलाई। इसके बाद महामहिम राष्‍ट्रपति को 21 तोपों की सलामी दी गई। राष्‍ट्रपति बनने के बाद रामनाथ कोविंद ने अपने पहले संबोधन में सभी का आभार व्‍यक्‍त किया. उन्‍होंने कहा कि हमारा देश विविधताओं से भरा हुआ है. हम बहुत अलग है, फिर भी एक है और एकजुट हैं। 

देश के प्रथम नागरिक के तौर पर शपथ लेने के बाद रामनाथ कोविंद ने कहा कि देश के आम नागरिक ऊर्जा के मुख्‍य स्रोत हैं. देश का हर नागरिक राष्‍ट्र निर्माता है. उन्‍होंने कहा कि भारत की उपलब्धियां ही सदी की दिशा तय करेंगी. आज पूरी दुनिया भारत की तरफ देख रही है।  उन्‍होंने कहा कि मैं पूर्व राष्‍ट्रपतियों के पद चिन्‍हों पर चलूंगा। शपथ लेने के बाद रामनाथ कोविंद ने कहा कि मैं एक छोटे से गांव से आया हूं।  मैं एक मिट्टी के घर में पला बढ़ा हूं।  उन्होंने देश की जनता का आभार भी जताया है। उन्होंने कहा कि मैं देश के सवा करोड़ लोगों को नमन करता हूँ। 
लोकसभा में हंगामा करने वाले कांग्रेसी सांसदों के सस्पेंड किये जाने के बाद बहुत दुःखी है कांग्रेस

लोकसभा में हंगामा करने वाले कांग्रेसी सांसदों के सस्पेंड किये जाने के बाद बहुत दुःखी है कांग्रेस

Never happened under Meira Kumar. She never lost her cool. Speaker shouldn't come under govt's pressure: M Kharge on suspension of 6 INC MPs
नई दिल्ली: लोकसभा में सोमवार 6 कांग्रेसी सांसदों के सस्पेंड किये जाने के बाद वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे काफी आहत दिख रहे हैं। खड़गे का कहना है कि पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार कभी ऐसा नहीं करतीं थीं, वो कभी किसी के दबाव में नहीं आईं। न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बातचीत में खड़गे ने अपना दर्द जाहिर किया है। सोशल मीडिया एक कांग्रेसी नेता खड़गे को आइना दिखाते हुए एक अख़बार की कटिंग पोस्ट की गई है जिसमे बताया गया है कि वर्तमान लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने दो बार तो पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार ने तीन बार सांसदों को सस्पेंड किया है देखें अख़बार की कटिंग जिसे ट्विटर पर खड़गे के बयान के बाद सत्यजीत भारद्वाज नाम के युवक ने पोस्ट किया है। इस पोस्ट के बाद कांग्रेसी नेता खड़गे का वो बयान झूंठा साबित हो रहा है जिसमे वो कह रहे है कि पूर्व स्पीकर मीरा कुमार ऐसा नहीं करतीं थीं। सोशल मीडिया पर खड़गे की जमकर खिंचाई भी होने लगी है। 

ताजा जानकारी के मुताबिक़ सांसदों के निलंबन के परेशान कई विपक्षी नेता एकजुट होकर लोकसभा के प्रदर्शन करने वाले हैं। मालूम हो कि लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कल  कांग्रेस के 6 सांसदों को 5 दिन के लिए सस्पेंड कर दिया था। इन सांसदों पर अध्यक्ष की ओर कागज फाड़कर उछालने का आरोप है। इन  सांसदों में गौरव गोगोई, अधीर रंजन चौधरी,रंजीत रंजन, एमके राघवन, सुष्मिता देब और के सुरेश शामिल हैं। आज देश के नए राष्ट्रपति शपथ लेने वाले हैं जिसके बाद नए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संसद को सम्बोधित करेंगे लेकिन सस्पेंड सांसद इसमें हिस्सा नहीं ले पाएंगे जिस कारण कांग्रेसी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे कल से परेशान दिख रहे हैं। 
अखिलेश सरकार में सुरक्षा घेरे में चलने वाला SP नेता अब्बासी अब बेंच रहा है भुट्टे

अखिलेश सरकार में सुरक्षा घेरे में चलने वाला SP नेता अब्बासी अब बेंच रहा है भुट्टे

नई दिल्ली/ लखनऊ: सत्ता जाती है तो बड़े बड़े नेताओं का बहुत कुछ चला जाता है। सत्ता के समय आगे पीछे चलने वाले सुरक्षा करनी सत्ता जाने के बाद गायब हो जाते हैं। जब नेता सत्ता में रहता है तो उसके कार्यकर्ताओं के भी अच्छे दिन आ जाते हैं। कई कार्यकर्ताओं को सुरक्षा गार्ड मिल जाते हैं जबकि असलियत में उन्हें इसकी जरूरत भी नहीं होती है लेकिन रोब जमाने के लिए अपने बड़े नेताओं के जुआड़ से सुरक्षा गार्ड हासिल कर लेते हैं। सोशल मीडिया पर उत्तर प्रदेश की एक तस्वीर वाइरल हो रही है जिसमे बताया जा रहा है पूर्व सीएम अखिलेश यादव और पूर्व मंत्री आजम खान का एक करीबी नेता जिसे अखिलेश सरकार में सुरक्षा गार्ड मिले थे वो आजकल भुट्टे बेंच रहा है।

इस युवा नेता का नाम राशिद अब्बासी बताया जा रहा है। ट्विटर पर कई तस्वीरें पोस्ट की गईं हैं जिनमे अब्बासी पूर्व सीएम अखिलेश और सपा नेता आजम खान के साथ दिख रहा है। असलियत क्या है इसकी पुख्ता पुष्टि नहीं हो सकी है लेकिन एक बात सच है कि सत्ता जाने के बाद नेता बहुत कुछ खो देते हैं, बड़े नेता हों या उनके समर्थक। देखें तस्वीरें

Monday, July 24, 2017

कल राष्ट्रपति की कुर्सी पर बैठ जायेंगे राम, बहुत खुश हैं योगी, बहुत दुखी है कांग्रेस

कल राष्ट्रपति की कुर्सी पर बैठ जायेंगे राम, बहुत खुश हैं योगी, बहुत दुखी है कांग्रेस

नई दिल्ली: देश को कल 14वा राष्ट्रपति मिल जायेगा। कानपुर देहात के एक छोटे से गांव के कच्चे मकान में जन्मे रामनाथ कोविंद कल राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे। प्रणब मुखर्जी जी का कार्यकाल आज पूरा हो रहा है। कोविंद उत्तर प्रदेश से हैं इसलिए उत्तर प्रदेश के लोग बहुत खुश हैं। अभी तक प्रदेश के कई नेता प्रधानमंत्री बने थे लेकिन देश के सर्वोच्च पद तक कोई नहीं पहुँच सका था। कल उत्तर प्रदेश की जनता का ये सपना पूरा हो जाएगा। 

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज दिल्ली पहुंचे जहां उन्होंने रामनाथ कोविंद से मुलाक़ात कर उन्हें एडवांस में बधाई दी। योगी ने एक ट्वीट में दो तस्वीरें पोस्ट की हैं जिनमे उन्होंने लिखा है कि आज नई दिल्ली प्रवास के दौरान नवनिर्वाचित राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद जी से शिष्टाचार भेंट की। तस्वीरों में आप योगी को खुश देख सकते हैं। रामनाथ कोविंद के राष्ट्रपति बनने से सबसे ज्यादा दुःख कांग्रेस को होगा क्यू कि कांग्रेस कई वर्षों से आरएसएस से जुड़े लोगों के खिलाफ है और कांग्रेस का वश चलता हो आरएसएस को बैन कर दिया जाता। कांग्रेस ने हिन्दू आतंकवाद का शगूफा छेड़ आरएसएस पर जमकर निशाना साधा था और समय समय पर साधती भी है लेकिन उसका हाय तोबा मचाना बेकार चला जाता है देश के बड़े पदों पर आरएसएस का कब्ज़ा होता जा रहा है। कई कांग्रेसियों का दर्द सोशल मीडिया पर छलक रहा है। देश के बड़े कांग्रेसी नेता जिनका कांग्रेस मुक्त भारत में महा योगदान संभव है। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का एक ट्वीट तस्वीर के बाद पढ़ें समझ जाएँ उनकी पीड़ा। 

नए राष्ट्रपति के शपथ से एक दिन पहले 6 कांग्रेसी सांसदों को लोकसभा से बोला गया गेटआउट

नए राष्ट्रपति के शपथ से एक दिन पहले 6 कांग्रेसी सांसदों को लोकसभा से बोला गया गेटआउट

नई दिल्ली: रामनाथ कोविंद कल देश के 14वें राष्ट्रपति बन जायेंगे। कल कोविंद राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे और संभव है शपथ लेने के बाद संसद में उनका जोरदार स्वागत होगा लेकिन आज सस्पेंड किये गए कांग्रेसी सांसद ये मौका गंवा देंगे। आज जिन सांसदों को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने संस्पेंड किया उन्हें  सुषमिता देव, गौरव गोगोई, के.सुरेश अभिरंजन चौधरी और रंजीता रंजन शामिल थे। लोकसभा स्पीकर पर इन सांसदों ने कागज़ फेंके जिसके बाद इन्हे 5 दिन के लिए संस्पेंड कर दिया। अब ये सांसद दिन तक लोगसभा की कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले पाएंगे। 

दरअसल  कांग्रेस, वाम दलों और कुछ विपक्षी सांसदों ने देश में गोरक्षा के नाम पर कथित गोरक्षकों द्वारा लोगों की पीट-पीट कर हत्या किए जाने की घटनाओं का मुद्दा  उठाया और जमकर हंगामा किया। कई बार लोकसभा स्पीकर ने इन्हे चेतावनी दी तब भी कई सांसद हंगामा करते रहे जिससे नाराज स्पीकर ने इन्हे सस्पेंड कर दिया। वरिष्ठ नेता और लोकसभा सांसद मल्लिकार्जुन खडगे ने लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के उस फैसले पर निराशा जताई हैं जिसमें 6 कांग्रेसी सांसदों को सस्पेंड कर दिया गया। खड़गे ने  कि कल भारत के नए राष्ट्रपति शपथ लेने वाले हैं और आज हमारे 6 सांसदों को सस्पेंड कर दिया गया, अब हमारे सांसद नए राष्ट्रपति का स्वागत भी नहीं कर पाएँगे, यह गलत फैसला है। खड़के के इस बयान पर सोशल मीडिया पर जमकर चुटकी ली जा रही है। पढ़ें लोगों का क्या कहना है। 

बहुत पछता रहें हैं टमाटर की गाड़ियों को सड़क पर पलटने  वाले किसान

बहुत पछता रहें हैं टमाटर की गाड़ियों को सड़क पर पलटने वाले किसान

नई दिल्ली: खेतों में सब्जियों की पैदावार ज्यादा हो जाए तब भी किसान दुखी होते हैं और कम पैदावार भी किसानों को ही रुलाती है। कुछ माह पहले देश के कई राज्यों में टमाटर की रिकार्ड पैदावार हुई थी। किसान मंडियों में टमाटर बेंचने जाते थे तो किराया तक वसूल नहीं पाते थे। राज्यों की सरकारें सरकारी दाम पर टमाटर खरीद नहीं पातीं थीं तो मजबूर होकर किसान अपने टमाटर सड़क पर फेंक देते थे। जो टमाटर कभी सड़कों पर फेंक दिया जाता था अब उसी टमाटर की हिफाजत के लिए सुरक्षा गार्ड तक लगाए देखे जा रहें हैं। किसानों के खेतों में गत वर्ष टमाटर की रिकार्ड पैदावार हुई थी जिस कारण टमाटर के दाम बहुत कम हो गए और उन्हें सड़क पर फेंकना पड़ा इस कारण अधिकतर किसानों ने इस साल टमाटर की जगह अन्य सब्जियों की पैदावार की जिस कारण इस साल इनके दाम आसमान छूने लगे। 

यही हाल प्याज का होता है। जिस वर्ष प्याज की पैदावार ज्यादा होती है उसके दाम बहुत कम हो जाते हैं, किसानों को उनकी लागत भी नहीं मिल पाती है तो अगले वर्ष वो प्याज उपजाने से परहेज करते हैं। यही कारण है कि किसी साल प्याज के दाम आसमान छूने लगते हैं तो उसके अगले वर्ष उसके दाम जमीन पर आ जाते हैं। इस साल टमाटर मंहगा हुआ है किसान सोंच रहें होंगे कि काश इस वर्ष उन्होंने टमाटर की खेती की होती। किसान पछता भी रहें होंगे लेकिन अब पछताए क्या होगा जब चिड़िया चुग गई खेत? किसान अगले साल  टमाटर की खेती पर  अधिक ध्यान देंगे और संभव है इन दिनों जिस दाम पर टमाटर बिक रहा है अगले साल इसके दाम इतने मंहगे न हों। 

मालुम हो कि इन दिनों टमाटर के दाम आसमान छू रहे हैं।  जगह-जगह टमाटर 80 रुपये से लेकर 100 रुपये तक बिक रही है। हाल में महाराष्ट्र में एक सब्जी की दुकान से 300 किलो टमाटर चोरी कर लिए गए थे। देश के बड़े अखबारों में ये खबर छपी जिसे पढ़कर सब्जीवालों की चिंता बढ़ा गई।  इसके बाद इंदौर के व्यापारियों और किसानों ने गार्ड से टमाटर की सुरक्षा के लिए मंडी समिति से अनुरोध किया और उन्हें सुरक्षा गार्ड मिल गया । 

Sunday, July 23, 2017

मजा कम सजा ज्यादा देने लगी सेल्फी

मजा कम सजा ज्यादा देने लगी सेल्फी

Selfies Bad For Life
नई दिल्ली: देश में कुछ वर्षों में सेल्फी का प्रचलन बहुत तेजी से बढ़ा है खासकर जबसे स्मार्टफोन और इंटरनेट के दाम कम हुए हैं। अधिकतर लोगों के पास स्मार्ट फोन है और स्मार्टफोन में इंटरनेट है। वर्तमान समय में सेल्फी मजा कम सजा ज्यादा देने लगी है, सेल्फी के चक्कर में दो-तीन वर्षों में सैकड़ों जानें जा चुकी हैं, कई अधिकारी सस्पेंड इस लिए हो गए क्यूंकि वो गलत जगह पर सेल्फी ले रहे थे , कोई अस्पताल में घायल व्यक्ति के साथ सेल्फी ले रहा था तो किसी को पीड़ित महिला के साथ सेल्फी लेना मंहगा पड़ा। इसी वर्ष मार्च में उत्तर प्रदेश के  किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज हॉस्प‍ि‍टल में गैंगरेप और एसिड अटैक पीड़िता की सुरक्षा में तैनात महिला कॉन्स्टेबल द्वारा सेल्फी लेने का मामला सामने आया था।  फोटो वायरल होने के बाद तीनों महिला कांस्टेबल्स को सस्पेंड कर दिया गया था। 

युवाओं के लिए सेल्फी जानलेवा साबित हो रही है। इसी साल उत्तर प्रदेश के लखनऊ में चारबाग स्टेशन पर एक युवक मालगाड़ी के ऊपर चढ़कर सेल्फी ले रहा था। जैसे ही उसने ट्रेन के ऊपर खड़े होकर सेल्फी लेने के लिए हाथ ऊपर किया वह बिजली की लाइन की चपेट में आ गया। वह इससे बुरी तरह झुलस गया। मध्य प्रदेश के सतना में दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने गए एक युवक की सेल्फी लेने के चक्कर में पानी में डूबने से मौत हो गई। जिसे बचाने के लिये बांध में उतरा दूसरा साथी भी मौत का शिकार हो गया। महाराष्ट्र के सोलापुलर में चार डॉक्टरों को नदी के बीचों बीच सेल्फी लेने की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी। इसके अलावा दोस्तों के साथ सिरोही झील में सेल्फी लेते समय डूबने से एक छात्र की मौत हो गई।  तमिलनाडु से अपने परिवार के साथ छुट्टी मनाने मुंबई आई 21 साल की मीनाक्षी प्रिया की सेल्फी लेते समय समुद्र में गिरने से मौत हो गई थी। दिल्ली के अक्षरधाम के समीप चलती ट्रेन के सामने सेल्फी लेने के चक्कर में जान गंवा बैठे।  दोनों छात्र अपने पांच-छह दोस्तों के साथ चलती ट्रेन के सामने रेलवे ट्रैक पर सेल्फी का वीडियो शूट करना चाहते थे, लेकिन स्टंटबाजी के वक्त ट्रैक पर ट्रेन आ गई और दोनों इस ट्रेन की चपेट में आ गए।  ऐसा ही हाल का एक मामला ओडिसा का है, जहां एक इंजीनियरिंग के छात्र की मौत बिजली के तारों के साथ सेल्फी लेने के चक्कर में हो गई।  तीसरी घटना भी ऐसे ही अतिरेकी युवक की है, जो सबसे ऊंची चट्टान से सेल्फी के ही चक्कर में चट्टान से खिसककर समुद्र में जा गिरा और उसकी मौत हो गई। 

अधिकतर युवा सोशल मीडिया पर तस्वीरें और वीडियो पोस्ट करने के लिए सेल्फी लेते हैं और खुद को कुछ अलग दिखाना चाहते हैं लेकिन कुछ अलग दिखने के चक्कर में काफी युवक जान गँवा बैठते हैं। सेल्फी अच्छी तरह और तस्वीरें साफ़ हों इसके लिए युवा मंहगा मोबाईल खरीदते हैं। कुछ युवकों के पास मंहगे मोबाइल के पैसे नहीं होते तो परिजनों से झूंठ बोलकर या कोई गैरकानूनी काम करके मंहगा स्मार्टफोन लेते हैं। काफी युवाओं में सेल्फी मोनिया लत लग गई है। सेल्फीमीनिया उनके लिए किसी बीमारी से कम नहीं है। साल दर साल सेल्फी से हुई मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। पिछले तीन साल के भारत से जुड़े आंकड़ों की बात करें तो  2014 में सेल्फी से मरने वालों वालों की जो संख्या 15 थी, वह 2016 में बढ़कर 73 तक पहुंच गई जबकि 2017 में भी सेल्फी से मौतों का सिलसिला जारी है।  इसी महीने कुछ युवक छुट्टियों का मजा लेने नागपुर के वेना डैम में गए थे और वहां वोटिंग के दौरान सेल्फी लेना उनकी मौत की वजह बन गया। सेल्फी लेते समय नाव पलटने की वजह से 8 युवकों की मौत हो गई। सच में सेल्फी मजा कम सजा ज्यादा देने लगी है। 
बरेली में कांवड़ियों पर पत्थरबाजी, 24 कांवड़ियों समेत ITBP के आधा दर्जन जवान घायल

बरेली में कांवड़ियों पर पत्थरबाजी, 24 कांवड़ियों समेत ITBP के आधा दर्जन जवान घायल

24 Kawariyas, 6 ITBP & Police personnel injured in stone pelting by mob while passing through a route during 'Kanwar Yatra' in Bareilly
नई दिल्ली: पत्थरबाज सिर्फ जम्मू-कश्मीर नहीं देश कई अन्य राज्यों में भी उपद्रव मचा रहे हैं। सहारनपुर हिंसा में पत्थरबाज दिखे थे उसके अलांवा पश्चिम बंगाल हिंसा में भी पत्थरबाजों ने सुरक्षाबलों पर पत्थर बरसाए थे। अब उत्तर प्रदेश के बरेली में भी पत्थरबाजों का कहर बरसा है। बरेली में ये पत्थरबाजी कांवड़ यात्रा के दौरान हुई है। भीड़ की पत्थरबाजी में  24 कांवड़िये और 6 आईटीबीपी के जवान कुछ पुलिसकर्मी बुरी तरह घायल हो गए हैं। इस घटना के बाद एक पुलिस अधिकारी को सस्पेंड कर दिया गया है जबकि सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इस घटना के बाद  घटना के बाद बरेली के  एसएसपी  गजेंद्र कुमार ने कहा है कि हमने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। उन्होंने लोगों से शान्ति की अपील की है। करने की बात कही है। 

 एसएसपी  गजेंद्र कुमार ने बताया कि हमने घटना के बाद एक  पुलिस ऑफिसर को  सस्पेंड किया है। पुलिस घटना का कारण तलाश रही है। गिरफ्तार लोगों से पूंछतांछ की जा रही है। मालुम हो कि कई जगहों पर 21 जुलाई को जल चढ़ा दिया गया था लेकिन कहीं कहीं अब भी कांवड़ यात्रा जारी है। बरेली में इसी यात्रा के दौरान भीड़ ने पत्थर बरसाए। लोग जानना चाहते हैं कि ये पत्थरबाज कौन हैं और किस कारण इन्होने पत्थर बरसाए। 

Saturday, July 22, 2017

हे भगवान्! टमाटर विक्रेताओं ने बंदूकधारी सुरक्षा गार्ड रखना शुरू कर दिया

हे भगवान्! टमाटर विक्रेताओं ने बंदूकधारी सुरक्षा गार्ड रखना शुरू कर दिया

नई दिल्ली/ भोपाल: देश में शायद पहली बार ऐसा हो रहा है कि टमाटर के दाम 120 रूपये प्रति किलो तक बिक रहे हैं। आज फरीदाबाद की सबसे बड़ी सब्जी मंडी में टमाटर के थोक दाम 100 रूपये तक पहुँच गए जबकि खुदरा बाजार में ये 30 रूपये पाव ( 250 ग्राम ) बिके। दो हफ़्तों से टमाटर के दाम लगातार बढ़ते चले जा रहे हैं। टमाटर के बढ़ते दाम के बाद देश भर की तमाम सब्जी मंडियों में चोरों की निगाह सिर्फ टमाटर पर टिकी है। पिछले हफ्ते से महाराष्ट्र, हरियाणा की कई मंडियों में टमाटर चोरी हुए, कुछ सब्जी विक्रेताओं ने पुलिस में मामला भी दर्ज करवाया। 

अब ताजा जानकारी मिल रही है कि मध्य प्रदेश के इंदौर में एक टमाटर विक्रेता ने सुरक्षा गार्ड रख लिया है। ये सुरक्षा गार्ड दिन भर बन्दूक लेकर दुकान पर तैनात रहता है ताकि कोई चोर बदमाश टमाटर विक्रेता के साथ कोई घटना न घटित कर दे। न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने ये तस्वीर जारी की है। 
नीतीश-मोदी मिलाप, लालू और तेजस्वी के बुरे दिन शुरू

नीतीश-मोदी मिलाप, लालू और तेजस्वी के बुरे दिन शुरू

Bad-news-for-lalu-yadav
नई दिल्ली: 16 जून 2013 को भाजपा से जदयू की  17 साल पुरानी दोस्ती टूट गई थी जिसके बाद कई उतार चढ़ाव आये। नीतीश और नरेंद्र मोदी एक दूसरे से हाँथ तो मिलाते थे लेकिन दिल नहीं मिलते थे। एक पुरानी कहावत है कि प्यार में तकरार संभव है, जहाँ प्यार होता वहीं तकरार भी हो सकती है। प्यार और तकरार सिक्के के दो पहलू की तरह हैं कभी इस तरफ तो कभी उस तरफ, ठीक उसी तरह जैसे मुहब्बत और जंग में सब जायज है वैसे राजनीति में भी देखा जा रहा है कौन सा नेता कब किसी अन्य पार्टी में शामिल हो जाये कोई पता नहीं है। नीतीश और मोदी में आपसी कड़वाहट ज्यादा दिन तक नहीं चली। 2014 लोकसभा में मोदी देश के प्रधानमंत्री बने जबकि 2015 में नीतीश फिर बिहार के मुख्यमंत्री बने। मुख्यमंत्री बनने के बाद नीतीश में बदलाव देखा जाने लगा और वो पीएम नरेंद्र मोदी का अधिकतर मुद्दों पर साथ देते देखे गए चाहे नोटबंदी हो या जीएसटी, नीतीश ने केंद्र सरकार पर कोई आक्षेप नहीं लगाया। 

नीतीश की बात करें तो नवंबर 2005 में  उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल की बिहार में पंद्रह साल पुरानी सत्ता को उखाड़ फेंकने में सफल हुए थे और मुख्यमंत्री के रूप में उनकी ताजपोशी हुई। सन् 2010 के बिहार विधानसभा चुनावों में अपनी सरकार द्वारा किये गये विकास कार्यों के आधार पर वे भारी बहुमत से अपने गठबंधन को जीत दिलाने में सफल रहे और पुन: मुख्यमंत्री बने। 2014  में उन्होनें अपनी पार्टी की संसदीय चुनाव में खराब प्रदर्शन के कारण मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था लेकिन अगले साल फिर मुख्यमंत्री बन गए। 

अब नीतीश के बार फिर चर्चा का विषय बने हैं। सरकार बनाने में राष्ट्रीय जनता दल का अहम् योगदान है लेकिन राष्ट्रीय जनता दल के चीफ लालू यादव का परिवार इन दिनों कई आरोपों में फंसा है।  उन्हें दो बेटे सरकार में हैं, तेजस्वी यादव उप मुख्यमंत्री तो तेज प्रताप स्वास्थ्य मंत्री हैं लेकिन दोनों पर आरोप लगे हैं जिस कारण नीतीश सरकार की छबि दांव पर लगी है ऐसे में लालू के बेटों पर स्तीफे का दबाव है लेकिन लालू ऐसा नहीं चाह रहे हैं। अब नीतीश के सामने एक ही रास्ता है कि सरकार को बेदाग़ रखने के लिए तो तेजस्वी को बर्खास्त कर दें लेकिन सूत्रों की मानें तो शरद यादव ऐसा नहीं चाह रहे हैं इस वजह से नीतीश अब तक कोई फैसला नहीं ले पाए। 

कुछ देर बाद दिल्ली में नीतीश के डिनर पार्टी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने वाले हैं और ख़ास सूत्रों की मानें तो नीतीश मोदी का आज का मिलन बहुत ख़ास होगा। मोदी से मिलने के बाद नीतीश को एक ऊर्जा मिलेगी और फिर नीतीश कोई भी कदम उठा सकते हैं।  अगर एक दो दिन में तेजस्वी ने स्तीफा नहीं दिया तो नीतीश उन्हें बर्खास्त कर सकते हैं।