Showing posts with label India news. Show all posts
Showing posts with label India news. Show all posts

Sunday, January 22, 2017

अखिलेश यादव ने जारी किया घोषणापत्र, छात्रों को देंगे स्मार्टफोन

अखिलेश यादव ने जारी किया घोषणापत्र, छात्रों को देंगे स्मार्टफोन

नई दिल्ली: पिछले दो दशकों से देश के कई राज्यों ने जमकर विकास किया लेकिन उत्तर प्रदेश के विकास के रास्ते को कभी हांथी ने रोक दिया तो कभी साइकिल ने । चुनावों के लिए आज अखिलेश यादव ने कई बड़ी घोषणाएं की हैं जिनमे प्रदेश का विकास कम और जनता को ज्यादा लुभाया गया है ताकि वोट बटोर सकें । जाने अभी कुछ मिनट पहले की घोषणाएं ,,,

लैपटॉप, कन्या विद्याधन, लोहिया आवास, एंबुलेंस 108 योजनाओं को आगे बढ़ाएंगे।

समाजवादी लैपटॉप योजना, समाजवादी किसानकोष से किसानों की समस्याएं दूर होंगी।

छात्र-छात्राओं को स्मार्ट फोन।

गरीब लोगों को गेहूं-चावल

1 करोड़ लोगों को 1000 रुपये पेंशन

गरीब महिलाओं के लिए प्रेशर-कुकर

एक्सप्रेस-वे के किनारे स्किल डेवलपमेंट ट्रेनिंग

आगरा, कानपुर, वाराणसी में मेट्रो

मह‌िलाओं को बस के क‌िराए में 50 फीसदी छूट

कामकाजी मह‌िलाओं के ल‌िए हॉस्टल बनेंगे,
अखिलेश पांच साल तक मुख्यमंत्री रहे प्रदेश में गुंडागर्दी जारी रही, विकास के नाम पर ज्यादा कुछ नहीं कर पाए अब चुनाव आये हैं तो बड़ी बड़ी घोषणाएं कर रहे हैं । अब भी उत्तर प्रदेश की जनता रोजगार के लिए दुसरे राज्यों में भागती है ।

बन गई बात, साइकिल को मिला हाँथ का साथ

बन गई बात, साइकिल को मिला हाँथ का साथ

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस और समाजवादी पार्टी में बात बन गई है ।  मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सपा-कांग्रेस में गठबंधन हो गया है। सपा ने कांग्रेस को 105 सीटें दी हैं। वहीं सपा खुद 298 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इस गठबंधन के लिए कांग्रेस ने पूरा जोर लगा दिया था साथ में लालू यादव ने अपनी तरफ से पूरा प्रयास किया ।

अब देखना है ये गठबंधन चुनावों में कितना कामयाब होगा । सपा ने ये गठबंधन बहुत सोंच समझकर किया है । सपा विधानसभा चुनावों के साथ साथ 2019 के लोकसभा चुनावों को भी ध्यान में रख रही है । सूत्रों की मानें तो मुलायम सिंह यादव की नजर राष्ट्रपति की कुर्सी पर है । गठबंधन कई समीकरणों को देखकर किया गया है । अब देखना है राहुल और अखिलेश मिलकर क्या क्या गुल खिलाते हैं । 

रेल लाइटें काट, ट्रेन हादसे करवा बेगुनाहों को मार रहे हैं कुछ दरिंदे

रेल लाइटें काट, ट्रेन हादसे करवा बेगुनाहों को मार रहे हैं कुछ दरिंदे

नई दिल्ली : देश में लगातार हो रहे ट्रेन हादसे शायद इंसानी दें हैं और ट्रेनें अपने आप रेल की पटरियों से नहीं उतर रहीं हैं इन्हें पटरियों पर से उतारा जा रहा है । कानपुर रेल हादसे की जांच में बड़ा खुलासा हुआ जिसमे बताया है कि सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने के लिए पाकिस्तान की आईएसआई ने इस रेल हादसे को अंजाम दिया । कल रात्रि  के रेल हादसे में अब तक 35 लोगों की मौतें हो चुकी हैं । इस हादसे को भी शक की निगाहों से देखा जा रहा है । मालूम हो कि कल रात्रि आंध्र प्रदेश के विजयनगरम जिले में जगदलपुर-भुवनेश्वर हीराखंड एक्सप्रेस शनिवार रात पटरी से उतर गई थी जिसमे अब तक तीन दर्जन मौतें हो चुकी हैं सैकड़ों लोग घायल हुए हैं ।

सूत्रों के अनुसार, एक मालगाड़ी इसी पटरी से सुरक्षित ढ़ंग से निकल गई थी। गश्त करने वाले व्यक्ति ने भी पटरी की जांच की थी। हालांकि ट्रेनचालक को ट्रेन के पटरी से उतरने से ठीक पहले किसी पटाखे जैसी आवाज सुनाई दी थी। ऐसा लगता है कि पटरी पर बड़ी दरार पड़ी होगी, जिसके कारण ट्रेन पटरी से उतर गई। सूत्रों ने कहा, ‘इस इलाके के नक्सलवाद से प्रभावित होने के कारण और गणतंत्र दिवस के करीब होने के कारण पटरी के साथ छेड़छाड़ किए जाने की प्रबल आशंका है। साजिश के संदेह से इनकार नहीं किया जा सकता।’

कांग्रेस से हाँथ मिलाकर  मुस्लिम वोट बैंक नहीं खोना चाहती है SP

कांग्रेस से हाँथ मिलाकर मुस्लिम वोट बैंक नहीं खोना चाहती है SP

नई दिल्ली: विधानसभा चुनावों को लेकर उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन हो रहा है या नहीं आज इस बात का फैसला हो जाएगा ।  समाजवादी पार्टी के नेताओं के मुताबिक गठबंधन नहीं हो रहा, जबकि कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि आज इस पर स्थिति पूरी तरह साफ हो जाएगी ।  दरअसल मामला सीटों को लेकर फंसे हुआ है. सपा नेता नरेश अग्रवाल के मुताबिक कांग्रेस ज्यादा सीटें मांग रही थी और अखिलेश उतनी सीटें देनें को तैयार नहीं थे । बारीक सूत्रों की माने तो दोनों पार्टियों में अभी तक जिस कारण गठबंधन नहो हो सका है वो कारण है मुस्लिम मतदाताओं का? समाजवादी पार्टी अपना मुस्लिम वोट बैंक खोना नहीं चाहती तो कांग्रेस अपने इस पुराने वोट बैंक को फिर वापस पाना चाहती है ।

 कई सालों से कांग्रेस अपने इस वोट बैंक से दूर हो गई है जबकि ये वोट बैंक समाजवादी पार्टी की तरफ झुक गया है । अखिलेश को पता है कि अगर वोट बैंक कांग्रेस की तरफ चला गया तो आगे उनके लिए मुसीबत होगी । सियासी जानकार कहते हैं-कांग्रेस की यह चाहत भविष्य में खतरा न बने सपा को अंदरखाने यह चिंता सता रही थी। लिहाजा,एक दिन पहले ही अपनी शर्तों पर गठबंधन की गेंद कांग्रेस के पाले में धकेल दी थी।

हर मामले में रेप का आरोप नहीं लगा सकतीं लडकिया, कोर्ट

हर मामले में रेप का आरोप नहीं लगा सकतीं लडकिया, कोर्ट

नई दिल्ली: देश में हर रोज सैकड़ों रेप के मामले आते हैं जिनमे अधिकतर आरोप फर्जी होते हैं । कई कई मामलों में देखा जाता है कि लडकियां आरोप लगातीं हैं कि फला व्यक्ति मुझे शादी का झांसा देकर सालों से रेप कर रहा था । अब ऐसी लड़कियों को कोर्ट ने आइना दिखाया है और कहा है कि शादी का वादा करके शारीरिक संबंध बनाना हर मामले में रेप नहीं हो सकता। मुंबई हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई के दौरान ये टिप्पणी दी। जस्टिस मृदुला भास्कर ने 21 साल के एक युवक को जमानत देते हुए कहा कि शादी से पहले सेक्स को रजामंदी देने वाली पढ़ी-लिखी लड़की को अपने फैसले की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। 

युवक की प्रेमिका ने ब्रेकअप के बाद उस पर रेप का आरोप लगाया था। अदालत ने माना कि धोखाधड़ी के जरिए सेक्स की रजामंदी के लिए प्रलोभन दिया जाता है, लेकिन इसका कोई सबूत जरूरी है कि लड़की को शारीरिक संबंध बनाने की हद तक बहकाया गया। महज शादी का वादा ऐसे मामलों में प्रलोभन नहीं कहा जा सकता।
जस्टिस मृदुला के मुताबिक,’सदियों से समाज मानता आया है कि शादी के वक्त लड़की का वर्जिन होना जरूरी है, लेकिन आज की पीढ़ी एक-दूसरे से मिलने-जुलने के अलग तरीके अपना रही है। वो सेक्स को लेकर ज्यादा जागरूक है। समाज मुक्त होने की कोशिश कर रहा है लेकिन शादी से पहले सेक्स आज भी गलत है। ऐसे में एक लड़की को भूलना नहीं चाहिए कि प्रेमी के साथ सेक्स का फैसला एक निजी विकल्प है, लेकिन वो इस बात की जिम्मेदारी नहीं लेती।’