Showing posts with label India news. Show all posts
Showing posts with label India news. Show all posts

Wednesday, July 26, 2017

डूबती जहाज से उतर भागे नीतीश कुमार, जल्द कहेंगे हर हर मोदी, घर घर मोदी?

डूबती जहाज से उतर भागे नीतीश कुमार, जल्द कहेंगे हर हर मोदी, घर घर मोदी?

Know Bihar CM Nitish Kumar Resigned
नई दिल्ली। पटना: बिहार में दो हफ़्तों से इज्जत और नाक की लड़ाई चल रही थी। इस लड़ाई में नीतीश कुमार जीत संभव है क्यू कि नीतीश यदि लालू के साथ रहते तो कहा जाता कि नीतीश भ्रष्टाचारियों का साथ दे रहे हैं और लालू के लिए ये इज्जत और नाक का सवाल था क्यू की वो अगर तेजस्वी का स्तीफा दिलवाते तो कहा जाता कि सच में लालू यादव का परिवार भ्रष्ट है। नीतीश ने समझदारी से काम लिया और स्तीफा दे दिया।  अब लालू के दोनों बेटे मंत्री नहीं रहे, नीतीश की बात करें तो वो खुद को दागदार का साथी कहलाने से बच गए।  शायद यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीतीश के त्यागपत्र के बाद ही एक ट्वीट कर दिया। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीतीश कुमार को बधाई दी। उन्होंने   ट्वीट किया, ''भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लड़ाई में जुड़ने के लिए नीतीश कुमार जी को बहुत-बहुत बधाई. सवा सौ करोड़ नागरिक ईमानदारी का स्वागत और समर्थन कर रहे हैं. देश के, विशेष रूप से बिहार के उज्जवल भविष्य के लिए राजनीतिक मतभेदों से ऊपर उठकर भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ एक होकर लड़ना,आज देश और समय की मांग है।  खास सूत्रों की मानें तो नीतीश कुमार कई महीने से लालू का साथ छोड़ना चाहते थे।  उन्हें पता है कि आने वाला दस साल भाजपा का है इसलिए एनडीए का हिस्सा बनने के लिए बेताब थे।  अब मौका मिल गया और डूबती हुई जहाज से भाग निकले। पूरी कहानी कल। 

सोशल मीडिया के माध्यम से बेंचता है देशी विदेशी हथियार, कहता है,  है अपनी सरकार

सोशल मीडिया के माध्यम से बेंचता है देशी विदेशी हथियार, कहता है, है अपनी सरकार

नई दिल्ली/ लखनऊ: सोशल मीडिया फायदे की चीज ही नहीं इससे बड़े बड़े खतरनाक काम भी हो रहे हैं। जम्मू- कश्मीर में सोशल मीडिया आतंकियों और पत्थरबाजों को बड़ा फायदा पहुंचा रही है तो सोशल मीडिया पर बड़े बड़े सेक्स रैकेट चलाये जा रहे हैं। व्हट्सएप पर तस्वीरें भेज रेट तय होते हैं। उत्तर प्रदेश से एक चौंकाने वाली खबर आ रही है जहाँ सोशल मीडिया पर हथियार बेंचे जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश के बरेली का ये मामला है जहां बसेड़ी तहसील के महेंद्र गुप्ता जो जिला पीलीभीत के निवासी बताये जा रहे हैं। महेंद्र गुप्ता का सुनील कुमार गुप्ता बसेड़ी से विवाद चल रहा है। विपक्षी के तीन पुत्र हैं जिनका दबंगों और अपराधियों से संपर्क है। उसके तीन पुत्रों में शिवम् उर्फ़ शैंकी फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से हथियारों का व्यापार करता है। 

शैंकी फेसबुक और व्हट्सएप पर देशी बिदेशी  हथियारों की तस्वीर डाल उसका सौदा करता है और अगर कोई कुछ पूंछता है तो कहता है अपनी सरकार है।  इसकी शिकायत केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार से की गई है। केंद्रीय मंत्री गंगवार ने एसएसपी जोगेंद्र से पूरे मामले की जांच करने के आदेश दिए हैं। कुछ तस्वीरों में जाने पूरा मामला। ऊपर हथियार की तस्वीर भी शैंकी के द्वारा व्हट्सएप पर भेजी गई हैं। किसी पाठक ने मुझे ये सब भेजा है एक बड़े अखबार में आज ये खबर भी छपी है लेकिन सोशल मीडिया की किसी भी तस्वीर को मैं पुख्ता रिपोर्ट नहीं कह सकता। 


संसद में कांग्रेस, SP, JDU के नेताओं ने कहा कि 2000 के नोट बंद कर रहे हो तो हमें बता दो

संसद में कांग्रेस, SP, JDU के नेताओं ने कहा कि 2000 के नोट बंद कर रहे हो तो हमें बता दो

नई दिल्ली: आठ नवम्बर को अचानक नोटबंदी हुई जिसके बाद कई बड़ी पार्टियों के नेता चिल्लाते रहे कि ये फैसला अचानक क्यू लिया गया। उन्हें बताया क्यू नहीं गया। कहावत है कि दूध का जला छाझ फूंक-फूंक कर पीता है आज संसद में कुछ ऐसा ही दिखा। कुछ दिनों से अफवाह है कि 2000 के नोट बंद होने वाले हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ पांच महीने से दो हजार के नोट छपने बंद हो गए हैं।  इस खबर के बाद लोग सोंचने लगे हैं कि शायद बहुत जल्द दो हजार की नोटें बंद हो जाएँ। नोटबंदी अचानक हुई थी इस कारण कई बड़े नेता अपना माल ठिकाने नहीं लगा पाए थे। नोटबंदी के बाद कई पार्टियों के नेताओं ने अपने खाते में करोड़ों जमा करवाए थे जिस मामले में कई नेताओं पर जांच भी चल रही है। 

संसद में मानसून सत्र चल रहा है। आज समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने सवाल पूंछा कि क्या दो हजार के नोट बंद होने वाले हैं? उन्होंने सदन की कार्यवाही का संचालन कर रहे उपसभापति पी. जे. कुरियन से कहा कि जब परंपरा रही है कि संसद सत्र के दौरान सरकार अगर नीतिगत फैसले लेती है तो सदन को बताया जाता है। ऐसे में इस बात की भी जानकारी देनी चाहिए कि क्या सरकार ने रिजर्व बैंक को 2000 रुपये के नोटों की छपाई बंद करने को कहा है। कांग्रेस नेता गुलाम नवी आजाद और जेडीयू सांसद ने भी जानना चाहा कि क्या सच में ऐसा होने वाला है। 
 मालुम हो कि पिछले दिनों मीडिया में 2000 रुपये के नोटों को लेकर अलग-अलग तरह की खबरें आई थीं जिनमें इनकी छपाई बंद होने तक की बात भी कही गई थी। इससे पहले 200 रुपये के नोट लाए जाने की भी खबरें आ चुकी हैं। 
जल्द दबोचे जायेंगे कश्मीर के पत्थरबाजों के 48 गैंगेस्टर, NIA को बड़ी कामयाबी

जल्द दबोचे जायेंगे कश्मीर के पत्थरबाजों के 48 गैंगेस्टर, NIA को बड़ी कामयाबी

New Delhi 26 July 2017: जम्मू-कश्मीर में एनआईए बहुत बड़ी कार्यवाही करने जा रही है। हाल में गिरफ्तार कई अलगाववादी नेता रिमांड पर हैं जिनसे कई चौंकाने वाले खुलासे हो सकते हैं। एनआईए ने अभी तक अपनी जांच पड़ताल में पाया है कि जम्मू-कश्मीर में 48 लोग पत्थरबाजों के आका हैं। एनआईए ने 110 पेज की रिपोर्ट तैयार की है जिसमे इन 48 लोगों के नाम और मोबाइल नंबर हैं। ये सभी पत्थरबाजों के गैंगेस्टर हैं। उधर कल गिरफ्तार किया गया अलगाववादी नेता  शब्बीर शाह आज दिल्ली लाया गया है। शब्बीर शाह के भी काल डिटेल से कई जानकारियां मिल सकतीं हैं। 
इस मामले में एनआईए जिस तरह जांच कर रही है उससे लगता है कि जम्मू-कश्मीर के पत्थरबाज अब नहीं बचेंगे। इनके सभी आका जल्द जेल में होंगे। एनआईए सूत्रों के मुताबिक़ इन पत्थरबाजों का पूरा नेटवर्क व्हट्सएप से चलाया जा रहा था जिनमे कई ग्रुपों के एडमिन पाकिस्तान से हैं। जब सेना किसी आतंकवादी को घेरती थी तो व्हट्सएप ग्रुपों में जानकारी देकर स्थानीय पत्थरबाजों को बुलाकर सेना पर पत्थर बरसवाये जाते थे। 

मोदी का नाम लेकर अधिकतर चुनाव जीत लेती है BJP, राहुल के नाम पर कांग्रेस की खड़ी हो रही है खटिया

मोदी का नाम लेकर अधिकतर चुनाव जीत लेती है BJP, राहुल के नाम पर कांग्रेस की खड़ी हो रही है खटिया

PM Modi Rahul Gandhi
नई दिल्ली: देश में कांग्रेस के बुरे दिन आते चले जा रहे हैं। राष्ट्रपति चुनावों के बाद उपराष्ट्रपति चुनाव भी भाजपा बिना किसी कठिनाई से जीत जाएगी। देश के लगभग सभी बड़े पदों पर भाजपा का कब्जा होता जा रहा है। कई बड़े राज्यों में भाजपा की सरकारें बन गईं हैं। 2014 के बाद भाजपा को निगमों, नगर पालिकाओं के चुनावों में भी बड़ी जीत मिली जबकि कांग्रेस की हार लगातार जारी है। भाजपा अपने कांग्रेस मुक्त भारत नारे की तरफ आगे कदम बढ़ाती चली जा रही है जबकि कांग्रेस भाजपा के सपनों पर विराम नहीं लगा पा रही है। उपराष्ट्रपति पद के चुनाव के साथ भारतीय राजनीति के साठ दशक में यह पहला मौक़ा होगा जब देश के तीन प्रमुख पदों पर ग़ैर कांग्रेसी राजनीति से आए व्यक्तित्व क़ाबिज़ होंगे। कांग्रेस को गंभीर मनन की जरूरत है कि आखिर उसकी किस गलती के कारण ऐसा हो रहा है। 

2014 के बाद जितने भी चुनाव हुए भाजपा मोदी के नाम पर जीती है। नगर निगमों और नगर पालिकाओं के चुनावों में भाजपा ने मोदी के नाम पर वोट माँगा और कामयाब हुई जबकि कांग्रेस के पास ऐसा कोई चेहरा नहीं था जिसके नाम पर वो वोट बटोर सके। जब से अफवाह है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बनेंगे और उनके नेतृत्व में 2019 का चुनाव लड़ा जायेगा तबसे कांग्रेस की हार का आंकड़ा बढ़ता चला जा रहा है। भाजपा मोदी-मोदी करते अधिकतर चुनाव जीतती जा रही है और कांग्रेस राहुल-राहुल करते अधिकतर चुनाव हारती चली जा रही है। 

कांग्रेस के लिए केंद्र में उपज रहा शून्य कांग्रेस और पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल तोड़ता जा रहा है। युवा कांग्रेसियों को अपने राजनीतिक भविष्य की चिंता सताने लगी है। कहावत है कि घर का मुखिया अगर समझदार हो तो वो परिवार को जोड़े रखता है, परिवार पर मुसीबत नहीं आने देता लेकिन घर का मुखिया कमजोर है तो घर बिखर जाता है। कांग्रेस का परिवार बिखर रहा है। संदेह के घेरे में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का नेतृत्व है। सत्ता परिवर्तन के साथ-साथ टीम मोदी व्यवस्था परिवर्तन भी करती चली जा रही है जो कांग्रेस के लिए चिंता का विषय है। बहुत जल्द गुजरात हिमांचल सहित कुछ राज्यों में चुनाव होने हैं,  यदि इन चुनावों में भी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह बीजेपी को विजय की दहलीज पर ले जाने में कामयाब रहते हैं, तो निसंदेह विपक्ष की राह 2019 के लिए बहुत कठिन हो जाएगी। कांग्रेस को अपनी राजनीति में बड़े बदलाव की जरूरत है।