Showing posts with label Jat Andolan 2017. Show all posts
Showing posts with label Jat Andolan 2017. Show all posts

Thursday, March 2, 2017

जाटों ने दिखाया दिल्ली में दम, पहुंचे लाखों, जाम रहीं सड़कें, केजरीवाल भी परेशान

जाटों ने दिखाया दिल्ली में दम, पहुंचे लाखों, जाम रहीं सड़कें, केजरीवाल भी परेशान

नई दिल्ली 2 मार्च: हरियाणा के कई जिलों के जाट समुदाय के लाखों लोग आज दिल्ली के जंतरमंतर पर पहुंचे जिस कारण दिल्ली की कई बड़ी सड़कें जाम रहीं । लोग कई कई घंटों तक जाम में फंसे रहे । सुबह से ही जाट समुदाय के लोग दिल्ली पहुँचने लगे थे । पानीपत, सोनीपत, रोहतक, झज्जर और फरीदाबाद से काफी मात्रा में जाट समुदाय के लोग अपने निजी वाहनों से दिल्ली पहुंचे । 
जाटों के जंतर मंतर पर प्रदर्शन को देखते हुए केजरीवाल भी परेशान रही और किसी अनहोनी को रोकने के लिए कड़े सुरक्षा इंतजाम किये गए थे । जाट नेता यशपाल मलिक इस प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे थे । आज जाटों ने चेतावनी दी की बीस मार्च तक उनकी मांगे न मानीं गईं तो कई बड़े हाइवे पूरी तरह से बंद कर दिए जाएंगे । जाटों ने दिल्ली में दूध और सब्जियों की सप्लाई रोकने का भी एलान किया है । इस एलान से केजरीवाल सरकार और परेशान हो सकती है क्यू कि काफी मात्रा में दूध और सब्जियां हरियाणा से दिल्ली पहुँचती हैं । 

Wednesday, February 15, 2017

कुश्ती खिलाड़ी गीता फोगाट और अभिनेता जयदीप अहलावत ने किया जाट आंदोलन का समर्थन

कुश्ती खिलाड़ी गीता फोगाट और अभिनेता जयदीप अहलावत ने किया जाट आंदोलन का समर्थन

चंडीगढ़। फरीदाबाद 15  फरवरी : हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन जारी है, जाट नेताओं और सरकार के बीच अब तक कोई बात न बनने से माहौल कुछ अच्छा नहीं लग रहा है इसी बीच कई जाट हस्तियों ने आरक्षण को अपना समर्थन दे दिया है जिस कारण सरकार को चिंतन की जरूरत है ताक़ि प्रदेश की जनता को पिछले फरवरी की याद न आ सके । फरीदाबाद के सूरजकुंड में चल रहे अंतरराष्ट्रीय मेले में पहुंचीं कुश्ती खिलाड़ी गीता फोगाट ने भी जाट आरक्षण को अपना समर्थन दे दिया है, उन्होंने कहा कि समाज शांतिपूर्ण लगाईं लड़ रहा है मैं समाज के साथ हूँ ।

गीता फोगाट के अलांवा फिल्म अभिनेता जयदीप अहलावत ने भी आरक्षण का समर्थन करते हुए कहा है कि समाज के लोग अपने हक़ की लड़ाई लड़ रहे हैं । जयदीप ने हाल में रिलीज फिल्म रईस सहित दो दर्जन से ज्यादा फिल्मों में काम किया है । अभी तक पूरे हरियाणा में जाट समुदाय के लोग शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन अब संभव है कुछ नेताओं को ये अच्छा न लग रहा हो । तस्वीर में गीता फोगाट को सम्मानित करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल । 

Tuesday, January 31, 2017

जाट आंदोलन: क़ानून तोड़ रहे कई लोगों को पुलिस ने जारी किये नोटिस, कहा गलत बर्दाश्त नहीं

जाट आंदोलन: क़ानून तोड़ रहे कई लोगों को पुलिस ने जारी किये नोटिस, कहा गलत बर्दाश्त नहीं

भिवानी में पुलिस पूरी तरह से सतर्क 
चंडीगढ़, 31 जनवरी- प्रदेश में जाट आंदोलन का आज तीसरा दिन है सरकार पूरी तरह से सतर्क है प्रशासन भी अलर्ट होकर हर गतिविधि पर नजर रख रहा है । कल नियम तोड़ने वाले कई लोगों को नोटिस भेजे गए हैं  । एक जानकारी के मुताबिक़ अपराधिक याचिका न. 77 ऑफ  2007 मामले के तहत निजी व सरकारी सम्पति तोडफ़ोड़ बनाम आन्ध्र प्रदेश राज्य तथा अन्य के निर्देशों की अनुपालना में फतेहाबाद के ढाणी गोपाल चौक के समीप आरक्षण आंदोलन को लेकर धरने पर बैठे राजेन्द्र उर्फ  जीन्द्र पुत्र बाबरीराम, पालाराम पुत्र भलेराम, धर्मबीर पुत्र सुरतराम, सुरेन्द्र पुत्र गुरदयाल निवासी कन्हड़ी, जयबीर सिह पुत्र भदेवाराम उर्फ देवा, जोधाराम पुत्र अभय राम निवासी भीमेवाला, रमेश पुत्र जय सिह नूनियां वासी ढाणी सांचला, धर्मपाल उर्फ  बन्नी  पुत्र सोहन लाल गोदारा, रामसिह पुत्र हेतराम, दल्ला राम पुत्र हरिसिह ढुकिया निवासी ढाणी गोपाल, सुभाष पुत्र दयानन्द सिवाच निवासी गोरखपुर, रणसिह पुत्र मानचन्द, रणसिह ढाका तथा बलवीर पुत्र दल्लराम निवासी ढाणी डूल्ट को नोटिस जारी किये गये हैं।

इन्हें सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों का विवरण दिया गया है और इनके नामों का उल्लेख थाना के अभिलेख में भी दर्ज किया गया है। इसके अतिरिक्त लोगों में पुलिस तथा प्रशासन के प्रति विश्वास पैदा करने के लिये कल  गांव नहला, गोरखपुर तथा जाण्डली में फ्लैग मार्च निकाला गया।

    पुलिस अधीक्षक श्री ओ.पी. नरवाल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि आरक्षण आन्दोलन के मद्देनजर जिला जाट आरक्षण संघर्ष समिति के समर्थको को यह भी समझाया गया है कि वे अपना आंदोलन शांतिपूर्वक ढंग से करें। धरने पर बैठे लोगों को अवगत कराया गया कि यदि किसी भी आन्दोलनकारी द्वारा कानून एवं व्यवस्था भंग किये जाने का प्रयास किया गया तो सभी आयोजक तथा धरना पर बैठे लोग उस स्थिति में जबावदेह होंगे और नुकसान की भरपाई उनकी सम्पति में से कि जायेगी। उन्हें लिखित नोटिस दिये जाकर माननीय सर्वोच्च न्यायालय तथा पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के निर्देशों के बारे अवगत करवाया गया तथा उन्हें किसी भी किस्म का रास्ता रोकने, रेल रोकने, किसी निजी तथा सरकारी सम्पति तोडफ़ोड़ करने की सूरत में कानून के प्रावधानों से गुजरना पड़ेगा और नुकसान की भरपाई उनकी सम्पत्ति से की जा सकेगी। इसी कड़ी मे कल  भी ढाणी गोपाल चौक के पास धरना पर बैठे संघर्ष समिति के लोगों तथा अन्य लोगों को भी कानून एवं व्यवस्था हाथ में लेने के दुष्परिणामों बारे विस्तारपूर्वक समझाया गया। जो भी लोग धरने में शामिल होंगे उनका पूर्ण रिकार्ड पुलिस थानों में तैयार किया जा रहा है तथा उनके नाम सम्बन्धित गांव के थाना के अभिलेख मे अंकित किये जा रहे हैं। भविष्य में जब भी किसी नौकरी आदि के मामलों में उनका चरित्र सत्यापन किया जायेगा तो इस विषय का विवरण संबंधित दस्तावेजेां में अंकित किया जाएगा। 

Monday, January 30, 2017

जेल जा सकते हैं सोशल मीडिया पर जाट आंदोलन से सम्बंधित अफवाह फैलाने वाले

जेल जा सकते हैं सोशल मीडिया पर जाट आंदोलन से सम्बंधित अफवाह फैलाने वाले

तस्वीर। .भिवानी जिले में तैनात पुलिस 
चंडीगढ़, 30 जनवरी- जाट आरक्षण आंदोलन के दृष्टिगत सिरसा की उपायुक्त श्रीमती शरणदीप कौर बराड़ ने जिला प्रशासन का सहयोग करने और अफवाहों पर ध्यान न देने के लिए लोगों का आह्वान किया है। यदि उन्हें कोई असामाजिक तत्व शांतिपूर्ण वातावरण को दूषित करने का प्रयास करते पाया जाए तो वे इसकी सूचना तुरंत प्रशासन को दें। उन्होंने कहा कि ऐसे असामाजिक तत्वों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी।

जिला प्रशासन के एक प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि सिरसा की उपायुक्त ने सम्बंधित अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि केबल टीवी, ट्वीटर, फेसबुक और वाट्सअप जैसे सामाजिक मीडिया के माध्यम से ऐसी किसी भी सामग्री या विडियो या आपतिजनक ऑडियो, जो शांति को भंग करे, का प्रसारण या प्रचार न किया जाए। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति इन आदेशों की उल्लंघना करते पाया जाएगा, उसके विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने लोगों को यह भी सलाह दी कि वे बिना वेरीफाई के किसी भी प्रकार की टिप्पणी या सूचना को पोस्ट न करें।

Sunday, January 29, 2017

LIVE: हरियाणा में जाट आंदोलन शुरू, फतेहाबाद में 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड

LIVE: हरियाणा में जाट आंदोलन शुरू, फतेहाबाद में 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड

Live-Jat-andolan-live-Haryana
ANI
चंडीगढ़ 29 जनवरी: हरियाणा में जाट आंदोलन शरू हो गया है अधिकतर  जिलों में जाट समुदाय के लोग शांतिपूर्वक धरने पर बैठे हैं । रोहतक में सबसे ज्यादा फ़ोर्स तैनात है जहाँ रेपिड एक्शन फ़ोर्स की दो कंपनियां पहुँच चुकी हैं । एक कंपनी जसिया में तो दूसरी अन्य जगहों पर तैनात की गई है । जसिया में भारी पुलिस बल भी तैनात किया गया है । ताजा जानकारी के मुताबिक़ फतेहाबाद में पांच पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है । 

बताया जा रहा है कि जाट आंदोलन के मद्देनजर वहां फ्लैगमार्च किया जा रहा था जिनमे ये पुलिसकर्मी अनुपस्थित रहे जिसे देखते हुए इन्हें सस्पेंड किया गया । आज सुबह से गुरुग्राम के ग्रामीण अंचलों में पुलिस फ्लैग मार्च कर रही है तो भिवानी, झज्जर सोनीपत में कड़ी सुरक्षा देखी जा रही है । ये आंदोलन यशपाल मलिक गुट कर रहा है कई संगठनों ने इस आंदोलन से हाँथ खींच लिए हैं और मलिक को बाहरी बता रहे हैं जिन जाट संगठनों का कहना है कि उत्तर प्रदेश के यशपाल मलिक यहाँ समुदाय के लोगों को आगे कर अपनी राजनीति चमकाना चाहते हैं ।

Saturday, January 28, 2017

जाट आंदोलन, रेल, सड़क बाधित करने वालों की खैर नहीं

जाट आंदोलन, रेल, सड़क बाधित करने वालों की खैर नहीं

चंडीगढ़, 28 जनवरी- संभावित आरक्षण आंदोलन के दौरान जिला जींद में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए शुक्रवार को डीआरडीए सभागार में जिलाभर के मौजिज लोगों तथा विभिन्न समाजसेवी संगठनों से जुड़े लोगों से बातचीत की गई।
जींद के उपायुक्त श्री विनय सिंह ने कहा कि प्रजातंत्र में प्रत्येक व्यक्ति को अपने अधिकारों के संरक्षण के लिए धरना-प्रदर्शन इत्यादि करने का अधिकार है। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई भी कार्रवाई जिला व राष्ट्रहित में नहीं होती जिससे हमारे भाईचारे की भावना को ठेस पहुंचे और हमारी सरकारी अथवा सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना किसी भी सूरत में हितकर नहीं है। उन्होंने कहा कि झूठी अफवाहें न फैलें इसके लिए गांवों के मौजिज लोगों को आगे आना होगा। कई बार ऐसी अफवाहें समाज को विखंडित कर देती हैं। किसी भी मुद्दे का हल बातचीत के जरिए ही निकाला जा सकता है। समाज के प्रबुद्ध लोगों को इसके लिए आगे आना होगा। गांवों में शांति कमेटियां बनाई जानी चाहिए। डीसी ने कहा कि किसी भी सार्वजनिक संपत्ति को जलाना अथवा उसको नुकसान पहुंचाना हमारे हित में नहीं है। सार्वजनिक संपत्ति पर हम सब का सम्मान अधिकार है।

उपायुक्त ने कहा कि पिछले आरक्षण आंदोलन के दौरान पंचायती राज संस्थाओं, स्वयं सेवी संगठनों, समाज के मौजिज लोगों ने पूरा सहयोग दिया था। इसका नतीजा यह रहा कि हमारे जींद में अन्य जिलों की अपेक्षा काफी कम नुकसान हुआ था। उन्होंने यह भी कहा कि इस प्रकार का कोई भी कदम नहीं उठाया जाना चाहिए। जिससे समाज में भाईचारे में खटास आए। हमें अपने विशेषकर युवाओं को समझाना चाहिए। चूंकि आरक्षण का मामला अदालत में विचाराधीन है। अदालत के निर्णय के अनुसार ही आगे की कार्रवाई इस दिशा में हो पाएगी। गांव की शांति कमेटी को समाज में भाईचारा बिगाडऩे वाले लोगों पर भी नजर रखने की आवश्यकता है। कुछ आपराधिक किस्म के लोग अपने निजी स्वार्थो की पूर्ति के लिए हमारे भाईचारे को बिगाडऩे की कुचेष्टा करते हैं। ऐसे लोगों से सावधान रहना है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री शशांक आनंद ने कहा कि जिला में भाईचारे को किसी भी सूरत में बिगडऩे नहीं दिया जाए, इसके लिए मौजिज लोगों को आगे आना होगा। किसी को भी सडक़, रेल इत्यादि को बाधित करने नहीं दिया जाएगा। मार्ग अवरूद्ध होने से जनसाधारण को काफी असुविधा का सामना करना पड़ सकता है। किसी भी बीमार की जान ऐसी स्थिति में जा सकती है। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन जिला में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरी तरह से तैयार है। यहां आरएएफ की दो कंपनियां आ चुकी हैं। इसके अलावा मधुबन से पर्याप्त पुलिस बल को भी बुलाया गया है। लोगों में विश्वास पैदा करने के लिए फ्लैग मार्च करने जैसे कार्रवाई शुरु कर दी गई है। सभी एसएचओ को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने-अपने क्षेत्र में लोगों को समझाएं। प्रदर्शन किसी भी सूरत में आक्रामक न हो। प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो इसके लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है। उन्होंने शांति कमेटियों के सदस्यों को भी सुझाव दिया कि वे अनावश्यक तरीके से लोगों की भीड़ न होने दे। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने कहा कि जिला में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त संख्या में डयूटी मैजिस्टेट व दूसरे अधिकारी तैनात कर दिए गए हैं। शांति को किसी भी सूरत में बिगडऩे नहीं दिया जाएगा। एसएसपी ने कहा कि उत्तेजित करने वाली मिथ्या अफवाहों पर विश्वास न करें। कई बार गलत सूचनाएं संप्रेशित कर दी जाती हैं। जिनका समाज पर प्रतिकुल प्रभाव पड़ता है। अगर किसी भी व्यक्ति को समाज को तोडऩे वाली सूचना मिलती है तो वह सीधे इसकी जानकारी डीसी अथवा पुलिस प्रशासन को दे सकता है। पुलिस प्रशासन जनसाधारण के सहयोग के लिए हर समय तत्पर है।

बैठक में शांति समिति के कुलदीप ढांडा, देवासिंह, व्यापार मंडल के ताराचंद जिंदल, अन्ना टीम के सुनील वशिष्ठ समेत कई लोगों ने प्रशासन को विश्वास दिलाया कि वे जिला में पिछले अनुभव के आधार पर कानून व्यवस्था बनाए रखने में प्रशासन का पूरा सहयोग करेंगे और युवाओं को इस आंदोलन में भाग नहीं लेने के लिए प्रेरित करेंगे।
बैठक में आरएएफ के कमांडेट हबीब असगर, एडीसी आमना तस्नीम, जींद, सफीदों, नरवाना के एसडीएम, सतबीर कुंडू, जगनिवास तथा डा. किरण सिंह समेत सभी डीएसपी उपस्थित रहे।